Home उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) आगरा (Agra) आगरा : 43 लाख की लूट में फरार असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार...

आगरा : 43 लाख की लूट में फरार असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी पर 50-50 हजार का इनाम

आगरा : 43 लाख की लूट में फरार असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी पर 50-50 हजार का इनाम

3 लाख रुपये की लूट में फरार चल रहे निलंबित सिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी शैलेंद्र कुमार पर पुलिस ने अब 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया है। पुलिस का कहना है कि एक माह से दोनों फरार है उनकी लगातार तलाश की जा रही है।

उत्तर प्रदेश के मथुरा निवासी चांदी कारोबारी से 43 लाख रुपये की लूट में फरार चल रहे निलंबित सिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी शैलेंद्र कुमार पर पुलिस ने अब 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया है। पुलिस का कहना है कि एक माह से दोनों फरार है उनकी लगातार तलाश की जा रही है। काफी तलाशने के बाद अब उन पर इनाम रखा गया है। अगर अभी भी वह पकड़ में नहीं आते हैं तो कोर्ट से कुर्की की कार्रवाई के लिए आग्रह किया जाएगा। हालांकि कुर्की को लेकर उनके घरों पर नोटिस लगा दिया गया है। 

यह है पूरा मामला 

जानकारी के अनुसार मथुरा के गोविंद नगर निवासी प्रदीप अग्रवाल चांदी कारोबारी हैं। उनके द्वारा पुलिस को दी गई जानकारी के अनुसार वह चांदी लेकर मंडी करने बिहार गए थे। 30 अप्रैल की रात को अपने चालक राकेश चौहान के साथ लौट रहे थे। गाड़ी में एक बैग में 43 लाख रुपये थे। जैसे ही वह आगरा की ओर बढ़े तो आरोप है कि वाणिज्यकर की टीम ने चेकिंग के लिए उनकी गाड़ी को लखनऊ-एक्सप्रेस-वे के फतेहाबाद टोल पर रोका लिया। टीम उन्हें जयपुर हाउस स्थित कार्यालय लेकर आई। जेल भेजने का भय दिखाकर उनकी गाड़ी में रखा कैश छीन लिया था। पीड़ित कारोबारी ने कई दिन घटना की शिकायत एसएसपी से की थी। लोहामंडी थाने में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। विभागीय जांच के बाद पुलिस को असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार, वाणिज्यकर अधिकारी शैलेंद्र कुमार, सिपाही संजीव कुमार और प्राइवेट चालक दिनेश के नाम दिए गए थे। पुलिस ने मुकदमे में इन नामों को खोला था। मुकदमे में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, धोखाधड़ी की धारा बढ़ाई गई थी। मुकदमे की विवेचना सीओ सदर राजीव कुमार को दी गई थी। सिपाही संजीव कुमार और प्राइवेट चालक दिनेश को पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल भेजा था।

निलंबित असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी शैलेंद्र कुमार अभी फरार

इस मामले में निलंबित असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी शैलेंद्र कुमार करीब एक माह से फरार चल रहे हैं। अजय कुमार मूलत: लखनऊ के इंदिरा नगर के निवासी हैं। आगरा में फिनिक्स पुष्पविला गार्डेनिया अपार्टमेंट में रहते थे। शैलेंद्र कुमार चंदौली के निवासी हैं। आगरा में अपर्णा प्रेम अपार्टमेंट में रहते थे। आईजी रेंज नवीन अरोरा ने दोनों फरार अधिकारियों पर 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है। एसएसपी मुनिराज जी ने बताया कि निलंबित वाणिज्यकर अधिकारियों की गिरफ्तारी के लिए एक टीम बनाई गई है। सीओ सदर के साथ सीओ लोहामंडी को भी टीम में लगाया गया है। क्राइम ब्रांच भी उनकी तलाश में जुट गई है। आरोपितों की तलाश में चंदौली, बनारस, मेरठ और प्रयागराज में दबिश भेजी गई है।

कुर्की के नोटिस को लगे होने वाला है एक माह

जानकारी हो कि कुर्की के मामले में पुलिस संपत्ति पर कुर्की का नोटिस चस्पा कर देती है। जिसमें बाद आरोपी को कोर्ट या पुलिस के समक्ष एक माह समय हाजिर होने के लिए दिया जाता है। इस मामले में विवेचक सीओ सदर राजीव कुमार के प्रार्थना पत्र पर कोर्ट ने 23 जुलाई को कुर्की उद्घोषणा के आदेश दिए थे। 23 अगस्त को एक माह पूरा हो जाएगा। इसके बाद विवेचक कुर्की की कार्रवाई के लिए कोर्ट में प्रार्थना पत्र दे सकते हैं। कुर्की उद्घोषणा के बाद वांछित को कोर्ट में हाजिर होने के लिए एक माह का समय दिया जाता है। कुर्की उद्घोषणा की मुनादी कराई जाती है। पुलिस यह कार्रवाई पूर्व में कर चुकी है। एक माह की अवधि पूरी होने के बाद कोर्ट में कुर्की की कार्रवाई के लिए प्रार्थना पत्र दिया जाएगा। पुलिस को जानकारी मिली है कि दोनों अधिकारियों ने प्रयागराज में डेरा डाला हुआ है। 

आगरा : 43 लाख की लूट में फरार असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी पर 50-50 हजार का इनाम
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

आगरा : 43 लाख की लूट में फरार असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी पर 50-50 हजार का इनाम