कोरोना से फाइट में जरूरी है सही डाइट, लेंगे ऐसा आहार तो जल्द होंगे रिकवर, लौट आएगी खोई एनर्जी

    0
    21

    [ad_1]

    कोरोना की दूसरी लहर ने देश में हाहाकार मचा रखा है। सरकार की सभी रणनीतियां कोराेना के नए वेरिएंट के आगे फेल हो रही हैं, ऐसे में स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा इलाज से लेकर खानपान के लिए लगातार गाइडलाइंस जारी की जा रही हैं। चिकित्सक भी लगातार एक ही बात कह रहे हैं कि कोरोना को हराना है तो व्यक्ति को अपने खाने पीने पर विशेष ध्यान देना होगा। इम्युनिटी बढ़ाने वाला खाना पीना इस वक्त अच्छा है, लेकिन कोरोना संक्रमण हाे जाए तो मरीज को क्या खाना चाहिए और कोरोना से स्वस्थ होने के बाद डाइट कैसी होनी चाहिए, ताकि शरीर जल्द से जल्द शरीर रिकवर हो सके और खोई हुई एनर्जी वापस आएगी। यह जवाब अभी भी कई लोग ढूंढ रहे हैं। इसलिए आज हम यहां बात कर रहे हैं कोरोना से फाइट में सही डायट की।

    यह भी पढ़ें : कोरोना: अध्ययन में कंपनी का दावा, Moderna वैक्सीन 12-17 साल के बच्चों पर 96 फीसदी तक प्रभावी, पढ़ें

    इन्हीं सवालों का जवाब देते हुए महाराजा सयाजीराव यूनिवर्सिटी ऑफ बड़ौदा की प्रोफेसर और डाइटिशियन डॉ. विनिषा नमबियार ने खबरीलाल को बताया कि कोरोना के इलाज और दवा के असर करने के लिए भी खाने का सही होना जरूरी है। कोविड से ठीक होने के बाद रिकवरी में भी भोजन का सबसे बड़ा रोल है।

    कोरोना और भोजन

    कोरोना से लड़ने को लिए अच्छे खान पान और इम्युनिटी की जरूरत है। वायरस और बीमारी से सुरक्षा के लिए रोजाना विटामिन, खनिज, फाइबर, प्रोटीन और एंटीऑक्सीटेंट युक्त भाेजन शरीर की प्रमुख आवश्यकता है। ऐसे में रोजाना संतुलित भोजन ही खाएं। पर्याप्त पानी और तरल पदार्थ पिएं। एक साथ ज्यादा भोजन करने की बजाए छोटी खुराक दिन में 5 से 6 बार लें। यदि सूखी खांसी और गले में खराश है तो ठोस भोजन कम लें और नर्म व गर्म आहार ही ग्रहण करें।

    DIET TIPS DURING COVID-19 और POST COVID-19

    • छोटी मात्रा में अक्सर खाएं। अधिमानतः एक दिन में 5-6 भोजन करें।
    • तनाव के कारण आपको अधिक कैलोरी की आवश्यकता होती है, ऊर्जा के लिए मांसपेशियों के टूटने से बचाने के लिए आपको सामान्य आहार की तुलना में अधिक कैलोरी और प्रोटीन की आवश्यकता होती है।
    • रोज 3-4 लीटर पानी पिएं। अपने शरीर को हाइड्रेट करने के लिए हर घंटे किसी न किसी रूप में तरल पदार्थ पिएं। आप ताजे फलों का रस, सूप, नारियल पानी, हर्बल चाय आदि ले सकते हैं।
    • अपने पोषण सेवन में सुधार के लिए भोजन के बीच पोषण की खुराक का उपयोग करें। उदाहरण के लिए, डॉक्टर की सलाह पर विटामिन सी, डी, जिंक, आदि लिया जा सकता है।
    • साबुत अनाज, खस कर्क अनप्रोसेस्ड मक्का, रागी, ज्वार, बाजरा, जौ, गेहूं , ब्राउन राइस का सेवन करें। प्रोसेस्ड फूड और ब्रेड जैसा खाना पाचन तंत्र को खराब करते हैं।
    • बीन्स, फलियां, दालों का नियमित सेवन करना चाहिए। यदि मांसाहारी हैं तो सप्ताह में 2-3 बार मांस, मछली, चिकेन और अंडे भी ले सकते हैं।
    • अच्छी सेहत बनाए रखने लिए 2 कप ताजे फल और 2.5 कप सब्जियां खाएं। सब्जियों और फलों का सेवन अधिक न करें, क्योंकि इससे महत्वपूर्ण विटामिन की हानि हो सकती है।
    • पानी शरीर के लिए आवश्यक है। यह रक्त में पोषक तत्वों और यौगिकों को स्थानांतरित करता है, आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है, अपशिष्ट से छुटकारा दिलाता है और जोड़ों को चिकनाई देता है । बहुत अधिक कैफीन का सेवन न करें। मीठे फलों के रस, सिरप , फलों के पाउडर और कोल्ड डिंक्स से बचें, क्योंकि इसमें उच्च मात्रा में चीनी होती है जो शरीर के लिए नुकसान दायक होती है।
    • पतली छाछ, सूप, नारियल पानी ( जब तक पोटेशियम प्रतिबंध नहीं है ), नमकीन नींबू पानी और ओआरएस का उपयोग किया जा सकता है। संभव हो तुलसी, अदरक पाउडर और अजवाईन, जीरा जोड़ें। यदि हृदय और गुर्दे की बीमारी है तो द्रव और सोडियम की मात्रा के साथ – साथ अन्य इलेक्ट्रोलाइट्स का सेवन न करें और इस संबंध में चिकित्सक से सलाह लें।
    • मछली, एवोकैडो , नट्स, जैतून का तेल, सोया, कैनोला, सूरजमुखी और मकई के तेल में असंतृप्त वसा (Unsaturated fats) जैसे और वसायुक्त मांस , मक्खन , क्रीम , पनीर , घी और मलाई में संतृप्त वसा (Saturated fat) पाया जाता है। प्रोसेस्ड मीट से बचें क्योंकि उनमें वसा और नमक उच्च मात्रा में होता है ।
    • प्रोसेस्ड फूड, फास्ट फूड, स्नैक फूड, फ्राइड फूड, फ्रोजन पिज्जा, कुकीज, मार्जरीन और स्प्रेड से बचें क्योंकि इनमें ट्रांस फैट होता है।
    • एक दिन में मुट्ठी भर नट और तिलहन उचित है।
    • रोजाना नमक का सेवन कम से कम 5 ग्राम (लगभग 1 चम्मच) तक सीमित करें और आयोडीन युक्त नमक का उपयोग करें। उन खाद्य पदार्थों ( जैसे स्नैक्स ) से बचें जो वसा , नमक और चीनी , सॉस और सलाद ड्रेसिंग में उच्च हो।
    • चूर्ण, पाउडर जैसे भोजन न करें। मसालेदार और नमकीन स्वाद के साथ रेडीमेड खाद्य पदार्थ न लें। इससे आप कुछ दिनों में स्वाद और गंध के लक्षणों की कमी से उबर सकते हैं।
    • उच्च अम्लता पैदा करने वाले भोजन से भी बचें।
    • भारी वर्कआउट कम करें, सलाह पर स्ट्रेचिंग और हल्का व्यायाम जारी रख सकते हैं।

    यह भी पढ़ें : जनता से ज्यादा अब भी मोदी की छवि की फिक्र, विदेशी मीडिया ने दिखाई भारत में कोरोना की हकीकत तो बौखलाई सरकार, पत्र भेजकर कहा- हमारी उपलब्धि तो गिनाई नहीं

    कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए डाइट

    भोजन का समय ऐसा हो भोजन/आहार
    सुबह 8 बजे 4 से 5 भीगे बादाम और एक गिलास गुनगाना पानी
    सुबह का ध्यान 20 मिनट
    नाश्ता सुबह 9 बजे 1 गिलास दूध (कम वसा)/ 1 कप चाय बिना चीनी
    1 कटोरी उबला चना/उबला मूंग/बेसन चीला/1 कटोरी पनीर पोहा/ 6 से 7 ढोकला/ दो उबले अंडे/चटनी के साथ दो इडली
    सुबह के दौरान 1 फल, 1 खाखरा/छोटे कटोरे में गुड़ का शीरा/सेवईं
    दोपहर का भोजन दो रोटी (सादी)/दलिया और सब्जी आलू के बिना और सलाद (गाजर), एक कटोरी दाल, 1 एक छोटी कटोरी दही या चास
    शाम का नाश्ता 1 कप चाय/काफी/दूध और दो खाकरा/1 कटोरी भुना हुआ मुरमुरा/1 कटोरी भुना हुआ पोहा/1 कटोरी मखाना
    शाम का ध्यान 20 मिनट, छोटे कप तुलसी का पानी/कोकम पानी
    रात का खाना शाम साढ़े सात बजे 1 कटोरी टमाटर सूप/पालक सूप/पालक गाजर चुकंदर टमाटर सूप/ मिक्स वेज सूप
    दलिया की सब्जी खिचड़ी/मूंग की खिचड़ी/2 सब्जी उत्तपम/दाल की सब्जी और 2 रोटी/ सब्जी उपमा/सब्जी पोहा/मूंगदाल चीला/बेसन (पिठला) और 2 रोटी/सब्जी पुलाव/मटन पुलाव/दही चावल और सूजी की खीर/2 थेपला
    बिस्तर का समय चुटकीभर हल्दी डालकर गर्म पानी या चाहें तो हल्दी युक्त दूध भी ले सकते हैं।

    प्रोफेसर नर्सिंग वर्मा (डिपार्टमेंट ऑफ फैमिली मेडिसन केजीएमयू और प्रेजीडेंट इंटरनेशनल सोसायटी फोर मेडिकल फूड एंड न्यूट्रिशन) के मुताबिक वायरस और बीमारी से सुरक्षा के लिए संतुलित आहार लेने की आदत डालें। कोविड में विटामिन C, विटामिन D और जिंक। विटामिन C के लिए रसदार फल लें। हरी सब्जियों से विटामिन और मिनरल मिलता है। लहसुन की कलियों से जिंक मिलेगा। अदरख से संक्रमण से लड़ने में मदद मिलेगी। दही से विटामिन D और पालक से मिनिरल मिलते हैं। बादाम से जरूरी विटामिन मिलते हैं। सूरजमुखी के बीज से भी विटामिन और मिनरल मिलते हैं। हल्दी, ग्रीन टी, पपीते से फायदा होता है। किवी फल भी पोषक तत्वों का खजाना होता है।

    कोविड पेशेंट की थाली

    घर में बना साधारण खाना सबसे बेहतर होता है। सब्जी, दाल, चावल की थाली सबसे सही है। रिकवरी में मल्टी ग्रेन रोटी बेहतर होती है। फैट, फाइबर वाले खाद्य पदार्थ,प्रोटीन,विटामिन वाले खाद्य पदार्थ, मिनरल, एंटी ऑक्सीडेंट, फोलेट ये सब जरूरी हैं। पेशेंट का खाना साफ और गर्म होना चाहिए। पोर्शन छोटे लेकिन प्रोटीन भरपूर होने चाहिए। दिन भर प्रचुर मात्रा में पेय पदार्थ जरूरी है। जंक फूड, तली भुनी चीजें नहीं खानी चाहिए। हाई शूगर वाले ड्रिंक का भी त्याग करें।

     पेट खराब है तो

    आसानी से पचने वाला आहार लें।  खिचड़ी, दलिया, दाल चावल सबसे बढ़िया रहेंगे। सांभर चावल, दही चावल, सूप भी सही हैं। कोरोना पेशेंट के लिए डॉक्टर की सलाह जरूरी है। डॉक्टर बताएंगे सही खाना क्या है। डॉक्टर बीमारी के हिसाब से डायट देंगे। दवा के हिसाब से भी खाना पीना तय होगा। इलाज के दौरान एहतियात जरूरी है। खाने पीने से इलाज को सपोर्ट मिलेगा। रिकवरी के लिए भी डायट प्लान जरूरी है।

    [ad_2]


    Disclaimer: Please verify the news with the original writer before taking any action. Here is the Source Link. If you are the writer and have any queries, write us at [email protected]

    Leave a Reply