Connect with us

Hi, what are you looking for?

Corona

सुप्रीम कोर्ट की फटकार के उपरांत आखिरकार केंद्र ने कोविड डेथ सर्टिफिकेट के लिए जारी की गाइडलाइंस

सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद केंद्र सरकार ने आखिरकार कोरोना से होने वाली मौतों को लेकर मृत्यु प्रमाण पत्र से संबंधित दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं. इसके अनुसार अस्पताल से छुट्टी मिलने पर भी जांच के 30 दिन के भीतर अस्पताल के बाहर मौत का कारण कोरोना माना जाएगा।Read Also:-उत्तर प्रदेश में बुखार का कहर: राज्य में 24 घंटे में डेंगू के 263 नए मरीज मिले; इनमें से ज्यादातर फिरोजाबाद में 170, यहां 5 मरीजों की मौत

advt.

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि कोरोना से संबंधित मौत के मामले में मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. इसे आईसीएमआर और स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया है। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में केंद्र ने कहा है कि भारत के रजिस्ट्रार जनरल ने 3 सितंबर को एक सर्कुलर जारी कर कहा है कि मृतक के परिजनों को मेडिकल सर्टिफिकेट जारी किया जाए और मौत का कारण लिखा जाए. .

सुप्रीम कोर्ट में कहा गया है कि शीर्ष अदालत के 30 जून के फैसले के आधार पर दिशा-निर्देश और सर्कुलर जारी किया गया है. गाइडलाइंस में कहा गया है कि कोविड की पुष्टि के बाद अस्पताल से छुट्टी मिलने पर भी टेस्ट के 30 दिन के भीतर अस्पताल के बाहर मौत को ही कोविड मौत माना जाएगा.

devanant hospital

गाइडलाइंस के मुताबिक अगर आरटीपीसीआर टेस्ट या एंटीजन टेस्ट या क्लीनिकल जांच में कोविड का पता चलता है तो इसे कोविड माना जाएगा. लेकिन साथ ही यह भी कहा गया है कि अगर मौत का कारण जहर, आत्महत्या या दुर्घटना से है तो कोविड टेस्ट में इसकी पुष्टि होने पर भी इसे कोविड से मौत नहीं माना जाएगा.

आईसीएएमआर की स्टडी में पाया गया है कि 95 फीसदी मौतें कोविड टेस्ट पॉजिटिव आने के 25 दिनों के भीतर हुईं. यह भी कहा गया है कि अगर कोविड टेस्ट पॉजिटिव आता है या क्लीनिकल तरीके से पता चलता है कि कोविड हुआ है और अगर 30 दिन के अंदर मौत हो जाती है तो मौत का कारण कोविड लिखा जाएगा. भले ही मौत अस्पताल के बाहर हुई हो। साथ ही गाइडलाइन में कहा गया है कि अगर किसी मरीज को कोविड हो गया है और वह लगातार अस्पताल में है और अगर ऐसा 30 दिन से ज्यादा हो गया है तो भी मौत को कोविड मौत माना जाएगा.

ortho

कोविड से मृत्यु के मामले में प्रमाण पत्र जारी करने को सरल बनाने के लिए दिशा-निर्देश तैयार कर इसकी क्रियान्वयन रिपोर्ट 11 सितंबर को उच्चतम न्यायालय के समक्ष पेश करने का निर्देश दिया गया था। इससे पहले पिछली सुनवाई में सॉलिसिटर जनरल ने एक सप्ताह का और समय मांगा था। इन दिशानिर्देशों को पूरा करने के लिए। सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए कहा कि यह आदेश बहुत पहले का है और समय पहले भी दिया गया था. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से इस मामले में शीर्ष अदालत द्वारा 30 जून को दिए गए आदेश के क्रियान्वयन से संबंधित रिपोर्ट अगले सप्ताह 11 सितंबर को अदालत के समक्ष पेश करने को कहा है.

ortho

सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता अधिवक्ता गौरव बंसल ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट ने 30 जून को आदेश पारित किया था और केंद्र सरकार को इस आदेश का सम्मान करना चाहिए और इसे लागू करना चाहिए. उच्चतम न्यायालय ने कोविड से मृत्यु के मामले में मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने की प्रक्रिया को सरल बनाने और इसके लिए दिशा-निर्देश जारी करने का निर्देश जारी किया था। यह भी आदेश दिया गया कि एनडीएमए (राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) कोविड से मरने वालों के परिवारों को मुआवजा देने के लिए छह सप्ताह के भीतर दिशा-निर्देश तैयार करे.

punjab

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ेंTwitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement

You May Also Like

Business

पहले से ही महंगाई की मार झेल रहे आम लोगों के लिए एक और बुरी खबर है। दरअसल, माचिस की डिब्बियों के दाम बढ़ने...

Featured

केंद्र सरकार द्वारा दिवाली से पहले तीन प्रतिशत महंगाई भत्ता (डीए) देने की घोषणा के बाद अब यूपी की योगी सरकार भी दिवाली से...

Featured

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शनिवार को बाराबंकी के हराख बाजार से कांग्रेस के शपथ मार्च को हरी झंडी दिखाई। उन्होंने सात प्रतिज्ञाओं का...

Featured

चुनाव से पहले योगी सरकार ने तोहफे की झड़ी लगा दी है. मुफ्त टैबलेट और स्मार्टफोन के बाद अब यूपी के कर्मचारियों को तोहफा...

Featured

मेरठ में अगर युवक बाइक में शोर मचाने वाले मॉडिफाइड साइलेंसर लगाते हैं तो उन्हें 15,000 रुपये जुर्माना देना होगा. केंद्रीय मोटर वाहन नियमावली...

Electricity

यूपी में चुनाव से पहले कई रिक्तियां भरी जानी हैं। इसके लिए विभागों ने तैयारी भी शुरू कर दी है। यूपी पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड...

Featured

अब फैजाबाद रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर अयोध्या कैंट कर दिया गया है। बीजेपी सांसद लल्लू सिंह के प्रस्ताव को रेलवे बोर्ड ने मंजूरी...

Crime

शुक्रवार की रात पुलिस ने मेडिकल क्षेत्र में एक दुकानदार की हत्या का खुलासा किया। पुलिस ने हत्या में मारे गए दुकानदार के बेटे...

Crime

मुरादाबाद सिविल लाइंस पुलिस ने दो महिलाओं समेत पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया है. यह रैकेट निजी बीमा कंपनी...

Featured

जहां सैमसंग हर जगह फोल्डेबल के साथ अपनी सफलता का आनंद ले रहा है, वहीं एक देश ऐसा भी है जहां चीजें इतनी अच्छी...

Featured

करवा चौथ चंद्र उदय समय 2021, आज चांद कितने बजे निकलेगा- विवाहित जोड़ों का सबसे बड़ा त्योहार करवा चौथ व्रत आज 24 अक्टूबर 2021...

Bollywood

बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान क्रूज ड्रग्स मामले में जेल में बंद हैं। आर्यन खान की जमानत अर्जी दो बार खारिज...

Featured

केंद्र सरकार के एक फैसले के बाद राज्य सरकार ने राज्य में कोरोना से मरने वालों के परिवारों को पचास हजार रुपये की अनुग्रह...

Featured

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद वरुण गांधी ने शनिवार को एक वीडियो क्लिप साझा की, जिसमें एक व्यक्ति अपनी धान की फसल को...

Featured

जम्मू-कश्मीर सरकार ने वैष्णो देवी यात्रा के लिए कोरोना के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। नई गाइडलाइंस के मुताबिक अब लोगों को मां...

Electricity

गोरखपुर अंचल के लगभग 15.52 लाख बकाएदारों को ब्याज और सरचार्ज में शत-प्रतिशत छूट देने के लिए पावर कारपोरेशन द्वारा लागू एकमुश्त समाधान योजना...

Agra

परीक्षा में अपनी जगह सॉल्वर बैठाकर सरकारी नौकरी पाने वाले आगरा के 30 कर्मचारी पुलिस के निशाने पर हैं। एक सॉल्वर गैंग से पूछताछ...

Featured

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक आदेश में कहा है कि राशन वितरण में धांधली की शिकायत की विस्तृत जांच जरूरी नहीं है. यह एक संक्षिप्त...

Advertisement

Website Designed & Maintained by TECHDOST