उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने के बाद बिजनौर जनपद में रात भर लोगों की सांसें अटकी रहीं। हालांकि गंगा में जलस्तर नहीं बढ़ा। प्रशासन ने गंगा के सीमावर्ती गांव के लोगों को पहले ही चौकस कर दिया था। सूचना मिलते ही तमाम लोग गंगा किनारे से अपना सामान समेटकर सुरक्षित स्थानों पर गए थे। लोगों को लग रहा था कि रात में गंगा का जलस्तर बढ़ेगा। लेकिन ऊपर से ही गंगा के जल को कंट्रोल कर लिया गया। गंगा में मात्र 7612 क्यूसेक पानी  बह रहा है। प्रशासन के साथ ही तटीय गांव के लोगों ने भी राहत की सांस ली।

Leave a Reply