देश की बढ़ती ताकत : DRDO ने किया नई पीढ़ी की आकाश मिसाइल और MPATGM का सफल परीक्षण

0
162
DRDO

डीआरडीओ लगातार देश की ताकत बढ़ा रहा है। बुधवार को नई पीढ़ी की सतह से हवा में मार करने वाली आकाश मिसाइल (आकाश-NG) का सफलतापूर्व परीक्षण किया। DRDO ने यह परीक्षण लगभग 12:45 बजे किया।

डीआरडीओ (रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन) लगातार देश की ताकत बढ़ा रहा है। बुधवार को नई पीढ़ी की सतह से हवा में मार करने वाली आकाश मिसाइल (आकाश-NG) का सफलतापूर्व परीक्षण किया। जानकारी के अनुसार DRDO ने यह परीक्षण लगभग 12:45 बजे किया। इस दौरान मल्टीफंक्शन रडार, कमांड, कंट्रोल एंड कम्युनिकेशन सिस्टम और लॉन्चर जैसे सारे वेपन सिस्टम का इस्तेमाल किया गया। वहीं, DRDO ने बुधवार को ही पोर्टेबल एंटि टैंक गाइडेड मिसाइल (MPATGM) का भी सफल परीक्षण किया। इससे हमारी सेना की ताकत में इजाफा हो गया है। 

जानकारी के अनुसार आकाश मिसाइल को DRDL हैदराबाद द्वारा प्रयोगशालाओं के सहयोग से तैयार किया गया। भारतीय वायुसेना के प्रतिनिधि भी मिसाइल की लॉन्चिंग के गवाह बने। फ्लाइट डेटा को कैप्चर करने के लिए आईटीआर ने इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम, रडार और टेलीमेट्री जैसे कई रेंज स्टेशनों को तैनात किया था। परीक्षण के दौरान मिसाइल ने तेज-तर्रार हवाई खतरों को बेअसर करने के लिए आवश्यक उच्च गतिशीलता का प्रदर्शन किया।

उत्पादन एजेंसियों BEL और BDL ने भी टेस्टिंग में भाग लिया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सफल परीक्षण के लिए DRDO, BDL, BEL, भारतीय वायु सेना और इंडस्ट्री को बधाई दी है। DD R&D सेक्रेटरी और DRDO अध्यक्ष ने सफल परीक्षण के लिए टीम के प्रयासों की सराहना की।

क्या है MPATGM

वहीं, MPATGM की बात करें तो मिसाइल को थर्मल साइट के साथ एकीकृत एक पोर्टेबल लॉन्चर से लॉन्च करके लक्ष्य पर निशाना साधा गया था जिसे टैंक के रूप में दिखाया गया था। मिसाइल ने डायरेक्ट अटैक मोड में लक्ष्य पर वार किया और इसे पूरी तरह नष्ट कर दिया। परीक्षण के जरिए मिसाइल की न्यूनतम सीमा का सफलतापूर्वक परीक्षण संपन्न हुआ जबकि इसकी अधिकतम सीमा की टेस्टिंग पहले ही हो चुकी है। टेस्टिंग के दौरान मिशन के सभी उद्देश्यों को पूरा किया गया। इस परीक्षण के साथ ही देश में निर्मित तीसरी पीढ़ी के मैन पोर्टेबल एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल के विकास को पूरा करने का लक्ष्य और करीब आ गया।

Leave a Reply