मेरठ में बढ़ा बाढ़ का खतरा, हस्तिनापुर में बांध का तटबंध टूटा, कई गांव जलमग्न

0
1411

पहाड़ी और मैदानी इलाकों में हो रही लगातार बारिश के बाद हरिद्वार से तीन लाख, पिछत्तर हजार क्यूसेक पानी छोड़ने से गंगा उफान पर आ गई है। ऐसे में मेरठ के हस्तिनापुर में गंगा जलस्तर बढ़ने से बांध का एक तटबंध टूट गया तथा दूसरा क्षतिग्रस्त हो गया। गंगा उफान पर आने से कई गांव और खेत जलमग्न हो गए। हस्तिनापुर, परीक्षितगढ़ खादर क्षेत्र में बाढ़ के हालात बन गए हैं। उधर बिजनौर में भी हालात बेकाबू होते जा रहे हैं।


उधर, मेरठ जिला प्रशासन और पुलिस ने हालात को देखते हुए आसपास के गांव वालों को अलर्ट कर दिया है। प्रशासन ने सभी गांव वालों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचने की हिदायत दी है। 
जिलाधिकारी के बालाजी ने बाढ के मददेनजर तैयारियों को को लेकर आज हस्तिनापुर व परीक्षितगढ़ क्षेत्र का दौरा कर बाढ़ राहत कार्यों का जायजा लिया। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह रात्रि में सघन निगरानी रखें और सभी आवश्यक कार्य बाढ़ राहत के संबंध में पूर्ण करा लिए जाएं ताकि आमजन को कोई परेशानी ना हो।

जिलाधिकारी ने हस्तिनापुर के फतेहपुर प्रेम व परीक्षितगढ़ ब्लाक के ग्राम कुंडा का निरीक्षण किया। अधिशासी अभियंता सिंचाई पीके जैन ने बताया कि सिंचाई विभाग ने अन्य विभागों के समन्वय के साथ बाढ़ राहत के संबंध में विभिन्न पहलुओं के दृष्टिगत तैयारियां की हैं।  

उन्होंने  बताया कि गत वर्ष हस्तिनापुर ब्लाक के ग्राम फतेहपुर प्रेम में कटाव निरोधक कार्य कराए गए। उन्होंने बताया कि यह कार्य करीब रुपए 7 करोड़ की लागत से कराए गए जिसमें 900 मीटर का कार्य कराया गया। उन्होंने बताया कि वर्तमान में हंसापुर परसापुर में करीब 6 करोड़ से कार्य चल रहा है जो कि करीब 850 मीटर है। इस अवसर पर  मुख्य विकास अधिकारी  शशांक चौधरी, उप जिलाधिकारी मवाना कमलेश गोयल सहित अन्य अधिकारी गण उपस्थित रहे।

यहां करें शिकायत

– कलक्ट्रेट कंट्रोल रूम नंबर – 0121-2664134

– तहसील मवाना का नंबर – 01233-274242

– सिंचाई विभाग का नंबर – 0121-2644254

Leave a Reply