Friday, January 27, 2023
No menu items!

सब्जी बेचने को मजबूर हैं राष्ट्रीय खिलाड़ी, बॉक्सिंग और तीरंदाजी में नेशनल स्तर पर जीते हैं पदक

Must Read

फतेहपुर में धर्मांतरण का एक और मामला आया सामने, 47 नामजद और 20 अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज

फतेहपुर (उप्र)। उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के हरिहरगंज ईसीआई चर्च में 90 हिंदुओं के सामूहिक धर्मांतरण का एक...

बिजनौर में विधायक के पीए ने डीएफओ से की बदसलूकी, एसपी ने नहीं लिखी रिपोर्ट, सरकार ने किया सस्पेंड

बिजनौर। अमनगढ़ क्षेत्र में निर्माण को लेकर भाजपा विधायक व डीएफओ बिजनौर के बीच उठा विवाद डीएफओ के...

एक बार फिर पर्दे पर धमाल मचाने आ रहे हैं मुन्ना भाई और सर्किट, इसी साल रिलीज होगी फिल्म

मुन्नाभाई और सर्किट के रूप में संजय दत्त और अरशद वारसी शायद हिंदी सिनेमा के सबसे चर्चित किरदारों में...
सब्जी बेचने को मजबूर हैं राष्ट्रीय खिलाड़ी, बॉक्सिंग और तीरंदाजी में नेशनल स्तर पर जीते हैं पदक
Deepak Singhhttps://www.apnameerut.com
Deepak Singh is a resident of Meerut and working as a content writer for various agencies. He is proficient in Sports news, Bollywood news, and local city news.

बाक्सिंग और तीरंदाजी स्पर्धाओं में राष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने वाले मेरठ के दो भाई सब्जी का ठेला लगाने को मजबूर हैं। कोरोना काल में लॉकडाउन में पिता की नौकरी जाने के बाद अब दोनों भाई पिता के साथ गली- मुहल्लों में ठेला लेकर सब्जी बेच रहे हैं।
website-design-company-company
मूलरूप से गोरखपुर निवासी अच्छे लाल चौहान कैलाश प्रकाश स्पोर्ट्स स्टेडियम की कैंटीन में खिलाड़ियों के लिए खाना बनाने का काम करते थे। सालों से कैलाश प्रकाश स्टेडियम में अच्छे लाल चौहान परिवार के साथ रहते हैं।

उनका 18 वर्षीय बेटा सुनील चौहान बॉक्सिंग में खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी में स्वर्ण पदक जीत चुके हैं। जबकि दूसरे भाई नीरज चौहान ने जूनियर और सीनियर तीरंदाजी प्रतियोगिता में रजत पदक हासिल किया है।

एडवोकेट रामकुमार ने की मदद 
एडवोकेट रामकुमार गुप्ता ने दोनों खिलाड़ियों की 11 हजार रुपये की आर्थिक मदद की। इसके अलावा दोनों खिलाड़ियों की कहानी बताते हुए एक वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड करते हुए लोगों से इन खिलाड़ियों की मदद की गुहार भी लगाई।
website-design-company-company
खेल विभाग ने नहीं जारी किया वेतन
क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी आले हैदर ने बताया कैंटीन में अस्थायी कर्मचारी कार्य करते हैं। लॉकडाउन में अस्थायी खेल प्रशिक्षकों की नियुक्ति भी अटकी है। ऐसे में खेल विभाग द्वारा ही वेतन जारी नहीं किया गया। खिलाड़ियों की मदद के लिए उच्च अधिकारियों से बता की है। अधिकारियों ने मदद का आश्वासन दिया है।

- Advertisement -सब्जी बेचने को मजबूर हैं राष्ट्रीय खिलाड़ी, बॉक्सिंग और तीरंदाजी में नेशनल स्तर पर जीते हैं पदक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -सब्जी बेचने को मजबूर हैं राष्ट्रीय खिलाड़ी, बॉक्सिंग और तीरंदाजी में नेशनल स्तर पर जीते हैं पदक
Latest News

फतेहपुर में धर्मांतरण का एक और मामला आया सामने, 47 नामजद और 20 अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज

फतेहपुर (उप्र)। उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के हरिहरगंज ईसीआई चर्च में 90 हिंदुओं के सामूहिक धर्मांतरण का एक...

बिजनौर में विधायक के पीए ने डीएफओ से की बदसलूकी, एसपी ने नहीं लिखी रिपोर्ट, सरकार ने किया सस्पेंड

बिजनौर। अमनगढ़ क्षेत्र में निर्माण को लेकर भाजपा विधायक व डीएफओ बिजनौर के बीच उठा विवाद डीएफओ के निलंबन के बाद समाप्त हो...

एक बार फिर पर्दे पर धमाल मचाने आ रहे हैं मुन्ना भाई और सर्किट, इसी साल रिलीज होगी फिल्म

मुन्नाभाई और सर्किट के रूप में संजय दत्त और अरशद वारसी शायद हिंदी सिनेमा के सबसे चर्चित किरदारों में से एक हैं। दर्शक...

रेलवे स्टेशन के विकास में बाधक, हनुमान जी का मंदिर हटाने के आदेश

बांधने के लिए। सेंट्रल रेलवे के बांदा रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक के बाहर हनुमान जी का मंदिर बना हुआ है. ...

पर्दे के पीछे पाकिस्तान और भारत के बीच कोई बातचीत नहीं: हिना रब्बानी

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की विदेश राज्य मंत्री हिना रब्बानी खार ने साफ कर दिया है कि पाकिस्तान और भारत के बीच पर्दे के पीछे...
- Advertisement -सब्जी बेचने को मजबूर हैं राष्ट्रीय खिलाड़ी, बॉक्सिंग और तीरंदाजी में नेशनल स्तर पर जीते हैं पदक

More Articles Like This

- Advertisement -सब्जी बेचने को मजबूर हैं राष्ट्रीय खिलाड़ी, बॉक्सिंग और तीरंदाजी में नेशनल स्तर पर जीते हैं पदक