RBI ने Mastercard पर लगाया बैन, जानिए आप पर क्या पड़ेगा असर

0
287

master card

भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने मास्‍टरकार्ड एशिया/पैसिफिक पीटीई लिमिटेड (मास्टरकार्ड) के खिलाफ बड़ी कर्रवाई की है। आरबीआई ने मास्टर कार्ड पर प्रतिबंध लगाते हुए 22 जुलाई, 2021 से नए कार्ड जारी करने पर रोक लगा दी है। यानि अब मास्टर कार्ड (Master Card) अपने कार्ड नेटवर्क (डेबिट, क्रेडिट या प्रीपेड) में नए घरेलू ग्राहकों को शामिल नहीं कर पाएगा। आरबीआई ने यह कार्रवाई पेमेंट सिस्‍टम डाटा के स्‍थानीय स्‍टोरेज के नियमों का पालन न करने पर की है।

बैंकों की ओर से मास्टर कार्ड के नए डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड और प्रीपेड कार्ड जारी करने को लेकर यह बड़ा फैसला करते हुए आरबीआई (RBI) ने कहा कि काफी समय दिए जाने के बावजूद, मास्टर कार्ड ने एंटाईटी को स्टोरेज ऑफ पेमेंट सिस्टम डेटा के निर्देशों का अनुपालन नहीं किया है। हालांकि आरबीआई के इस आदेश का असर मास्टरकार्ड के मौजूदा ग्राहकों पर नहीं पड़ेगा। आरबीआई ने कहा कि भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007 (पीएसएस अधिनियम) की धारा 17 के तहत आरबीआई में निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए कार्रवाई की गई है।

मास्टरकार्ड एक भुगतान प्रणाली ऑपरेटर है जो देश में कार्ड नेटवर्क संचालित करने के लिए अधिकृत है। 6 अप्रैल, 2018 को भुगतान प्रणाली डेटा के भंडारण पर आरबीआई के परिपत्र के अनुसार, सभी सिस्टम प्रोवाइडर्स को यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया गया था कि छह महीने की अवधि के भीतर उनके द्वारा संचालित भुगतान प्रणाली से संबंधित संपूर्ण डे केवल भारत में एक प्रणाली में संग्रहीत किया जाता है। इस साल अप्रैल में, आरबीआई ने अमेरिकन एक्सप्रेस बैंकिंग कॉर्प और डाइनर्स क्लब इंटरनेशनल लिमिटेड पर 1 मई, 2021 से अपने कार्ड नेटवर्क पर नए घरेलू ग्राहकों को शामिल करने पर प्रतिबंध लगा दिया था, जिसमें स्टोरेज ऑफ पेमेंट सिस्टम डेटा का पालन न करने का हवाला दिया गया था।

बता दें कि, अमेरिकन एक्सप्रेस बैंकिंग कार्पोरेशन और डाइनर्स क्लब इंटरनेशनल लिमिटेड भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007 (पीएसएस अधिनियम) के तहत देश में कार्ड नेटवर्क संचालित करने के लिए अधिकृत भुगतान प्रणाली ऑपरेटर हैं। 6 अप्रैल, 2018 को आरबीआई ने कहा कि उसने देखा है कि सभी सिस्टम प्रोवाइडर्स भारत में भुगतान डेटा स्टोर नहीं करते हैं. हाल के दिनों में, देश में पेमेंट इकोसिस्टम में काफी वृद्धि हुई है।

 

 

Leave a Reply