Home Breaking News पिछले 5 सालों में विक्रम सैनी समेत यूपी के इन 6 विधायकों...

पिछले 5 सालों में विक्रम सैनी समेत यूपी के इन 6 विधायकों को अदालतों ने ठहराया दोषी, विधानसभा से सदस्यता रद्द

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के छह विधायकों को पिछले पांच वर्षों में विभिन्न आरोपों में अदालतों द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद अयोग्य घोषित किया गया है। समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक आजम खान को पिछले महीने मुरादाबाद की एक अदालत के आदेश के बाद राज्य विधानसभा से अयोग्यता का सामना करना पड़ा था, उन्हें 15 साल पुराने एक मामले में दो साल की जेल की सजा सुनाई गई थी। वह रामपुर विधानसभा सीट से विधायक थे।

उन्हें 29 जनवरी, 2008 को राज्य राजमार्ग पर धरना देने का दोषी पाया गया, वह धरना इसलिए दे रहे थे क्योंकि 31 दिसंबर, 2007 को रामपुर में सीआरपीएफ शिविर पर हमले के मद्देनजर उनके काफिले को पुलिस ने चेकिंग के लिए रोक दिया था। उनके बेटे अब्दुल्ला आजम को भी इसी मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद उनके पिता के साथ यूपी विधानसभा से अयोग्य घोषित कर दिया गया।

संयोग से यह दूसरी बार है जब स्वार विधानसभा सीट पर काबिज अब्दुल्ला आजम को यूपी विधानसभा से अयोग्य घोषित किया गया है। इलाहाबाद उच्च न्यायालय द्वारा जाली जन्म प्रमाण पत्र के आधार पर विधानसभा के लिए उनके चुनाव को रद्द करने के बाद उन्हें पहले 2020 में अयोग्य घोषित कर दिया गया था।

नवंबर 2022 में, भाजपा विधायक विक्रम सैनी को उनकी खतौली सीट से अयोग्य घोषित कर दिया गया था, उन्हें मुजफ्फरनगर की एक अदालत ने 2013 के दंगों से जुड़े एक मामले में दो साल कैद की सजा सुनाई थी।

अयोध्या में गोसाईंगंज सीट से बीजेपी विधायक इंद्र प्रताप उर्फ खब्बू तिवारी को 2021 में अयोग्य घोषित कर दिया गया था, जब अयोध्या में एमपी/एमएलए अदालत ने उन्हें और दो अन्य को 1992 में मार्कशीट की जालसाजी का दोषी पाया था। उन्हें जुमार्ने के साथ पांच साल की सजा सुनाई गई। ट्रायल कोर्ट ने तीनों को आईपीसी की धारा 420 (धोखाधड़ी), 468 (जालसाजी) और 471 (जाली दस्तावेज या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड को वास्तविक के रूप में इस्तेमाल करना) के तहत दोषी ठहराया था।

एक अन्य भाजपा विधायक अशोक चंदेल की सदस्यता इस आधार पर रद्द कर दी गई थी कि उन्हें इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने 22 साल पहले हमीरपुर में हुई सामूहिक हत्या के लिए दोषी ठहराया था। अशोक चंदेल के खिलाफ मामला 26 जनवरी, 1997 का है जब स्थानीय भाजपा नेता राजीव शुक्ला और चंदेल के बीच एक मामूली विवाद के कारण गोलीबारी हुई, जिसमें शुक्ला के दो बड़े भाई राकेश, राजेश और भतीजे अंबुज, वेद नायक और श्रीकांत पांडे सहित पांच लोग मारे गए।

गोलीबारी में दो बच्चों सहित पांच और लोगों को गोली लगी थी, जिसके बाद चंदेल और नौ अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। सभी 10 आरोपियों को 15 जुलाई, 2002 को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश, हमीरपुर ने इस आधार पर बरी कर दिया था कि गवाहों की गवाही संदिग्ध थी। इस फैसले को राजीव शुक्ला ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी, जिसने फैसले को पलट दिया।

हमीरपुर से चार बार के विधायक और पूर्व सांसद अशोक चंदेल अब आगरा जेल में बंद हैं। उन्नाव में बांगरमऊ सीट से विधायक रहे भाजपा से निष्कासित विधायक कुलदीप सेंगर को 2020 में बलात्कार के एक मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद विधानसभा से अयोग्य घोषित कर दिया गया था। जून 2017 में उन्नाव के माखी गांव में नाबालिग से बलात्कार में कथित संलिप्तता को लेकर हुए हंगामे के बाद चार बार के विधायक सेंगर को अगस्त 2019 में भाजपा से निष्कासित कर दिया गया था।

अप्रैल 2018 में पीड़िता द्वारा मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्मदाह का प्रयास करने के बाद मामला सुर्खियों में आया, पुलिस ने उसकी शिकायत पर कार्रवाई नहीं की। कुछ दिनों बाद उसके पिता की पुलिस हिरासत में मौत हो गई।

.

News Source: https://royalbulletin.in/in-the-last-5-years-these-6-mlas-of-up-including-vikram-saini-were-found-guilty-by-the-courts/24957

पिछले 5 सालों में विक्रम सैनी समेत यूपी के इन 6 विधायकों को अदालतों ने ठहराया दोषी, विधानसभा से सदस्यता रद्द
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

पिछले 5 सालों में विक्रम सैनी समेत यूपी के इन 6 विधायकों को अदालतों ने ठहराया दोषी, विधानसभा से सदस्यता रद्द