Home Breaking News सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों से 100 करोड़ रुपये ठगने के आरोप में 3...

सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों से 100 करोड़ रुपये ठगने के आरोप में 3 गिरफ्तार, गरीबों के बैंक खाते खरीद कर किया करते थे ठगी

सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों से 100 करोड़ रुपये ठगने के आरोप में 3 गिरफ्तार, गरीबों के बैंक खाते खरीद कर किया करते थे ठगी

पीपीएफ खाते की बीमा राशि की मैच्योरिटी का झांसा देकर सेवानिवृत्त सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों से ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश हो गया है. पुलिस का कहना है कि आरोपियों ने देशभर में दस हजार लोगों से 100 करोड़ रुपये की ठगी की है.

whatsapp gif
advt

साइबर सेल और इंदिरापुरम पुलिस ने शनिवार को ग्रेटर नोएडा के गौर सिटी स्थित एक फ्लैट से तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया. इनके कब्जे से 14 मोबाइल और 33 एटीएम कार्ड भी बरामद किए गए हैं। पुलिस के मुताबिक आरोपी सेवा प्रदाता कंपनी से सरकारी कर्मचारियों का डाटा खरीदकर सेवानिवृत्त कर्मचारियों की पहचान करता था। इसके बाद वह ईपीएफ कार्यालय से होने का झांसा देकर फोन करता था।

ortho

बीमा राशि की मैच्योरिटी की जानकारी देकर कर्मचारी भ्रमित हो जाते थे। जब पीड़िता को यकीन हुआ तो आरोपी प्रोसेसिंग फीस के नाम पर लोगों से एक निश्चित रकम की मांग करता था। इसके साथ ही वे बैंकिंग की जानकारी हासिल करने की कोशिश में भी लगे रहे। बैंक की जानकारी मिलते ही आरोपी खातों में मौजूद पैसे निकाल लेते थे। मोबाइल पर मैसेज आने के बाद लोगों को ठगी के बारे में पता चलता था।

devanant hospital

नौ साल से ठगी : पुलिस की पूछताछ में खुलासा हुआ कि आरोपी साल 2012 से ठगी कर रहे थे. इस दौरान आरोपी एक पॉश सोसायटी में फ्लैट लेकर कॉल सेंटर चलाता था. इसके लिए युवक-युवतियों को काम पर रखा गया था।

“तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। गिरोह में शामिल अन्य आरोपियों की तलाश जारी है। उन्हें भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा”- ज्ञानेंद्र सिंह, एसपी, ट्रांस हिंडन

dr vinit new

ग़रीबों से खाते ख़रीदते थे
साइबर सेल प्रभारी सीओ इंदिरापुरम अभय मिश्रा ने बताया कि आरोपी 8-10 हजार रुपये देकर गरीबों से खाते खरीदते थे. इसके बाद वह एटीएम कार्ड, पासबुक, चेक बुक समेत खाते से जुड़े तमाम दस्तावेज अपने पास रखता था। साइबर सेल ने अब तक आरोपियों के 46 बैंक खाते फ्रीज कर दिए हैं, जबकि प्रारंभिक जांच में साइबर सेल और इंदिरापुरम पुलिस को 52 बैंक खातों में एक अरब रुपये के लेन-देन की जानकारी मिली है. आरोपी का साथी सुमित बैंक खाते बनवाने और अंकित सिम उपलब्ध कराने का काम करता था।

पंजाब

शेयर में काम हुआ
पुलिस ने राहुल निवासी खोड़ा, घनश्याम निवासी सेक्टर-49 नोएडा और धर्मेंद्र निवासी सेक्टर-20 नोएडा को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस का कहना है कि गिरोह का सरगना राहुल बीकॉम नजदीक है। घनश्याम ने 12वीं कंप्यूटर साइंस में की है। साथ ही दसवीं पास धर्मेंद्र वेतन पर आरोपी के यहां काम करता था। राहुल और घनश्याम पार्टनर का काम करते थे। कॉल सेंटर में लड़कियों को रखता था। इस दौरान काम करने वाले लोगों का वेतन और खर्च काटकर राहुल और घनश्याम बाकी रकम आपस में बांट लेते थे. वहीं, दस लाख रुपये की धोखाधड़ी के मामले में आरोपी घनश्याम साल 2015 में हैदराबाद में जेल भी जा चुका है.

monika

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।

सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों से 100 करोड़ रुपये ठगने के आरोप में 3 गिरफ्तार, गरीबों के बैंक खाते खरीद कर किया करते थे ठगी
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों से 100 करोड़ रुपये ठगने के आरोप में 3 गिरफ्तार, गरीबों के बैंक खाते खरीद कर किया करते थे ठगी