Home Breaking News डेल्टा वैरिएंट ने फिर डराया : एक कोरोना मरीज अब एक से...

डेल्टा वैरिएंट ने फिर डराया : एक कोरोना मरीज अब एक से अधिक लोगों को संक्रमित कर रहा है, एक महीने में आर वैल्यू 0.93 से बढ़कर 1.01 हो गई

डेल्टा वैरिएंट ने फिर डराया : एक कोरोना मरीज अब एक से अधिक लोगों को संक्रमित कर रहा है, एक महीने में आर वैल्यू 0.93 से बढ़कर 1.01 हो गई

दुनियाभर में चिंता का विषय बन चुके कोरोना के डेल्टा वेरिएंट ने भारत में संक्रमण के मामलों को बढ़ाना शुरू कर दिया है। इंस्टीट्यूट ऑफ मैथमैटिकल साइंस, चेन्नई के मुताबिक एक महीने के भीतर देश में आर वैल्यू की दर 0.93 से बढ़कर 1.01 फीसदी हो गई है। यानी अब एक कोरोना का मरीज एक से ज्यादा लोगों में संक्रमण फैला रहा है.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी के निदेशक डॉ. मनोज ने कहा कि आर वैल्यू का बढ़ना बेहद चिंताजनक है। इससे संक्रमण के बाद होने वाली मौतों और अस्पताल में भर्ती होने की संख्या में भी वृद्धि होती है। उच्चतम R मान मध्य प्रदेश (1.31) और हिमाचल प्रदेश (1.3) में है। इसके अलावा महाराष्ट्र और दिल्ली में आर वैल्यू का रेट 1.01 फीसदी है। केरल में R मान 1.06% है। यहां रोजाना 20 हजार से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं।

कोरोना का R मान क्या है?
डेटा वैज्ञानिकों के अनुसार, आर कारक प्रजनन दर है। यह बताता है कि एक संक्रमित व्यक्ति से कितने लोग संक्रमित हैं या हो सकते हैं। यदि R फैक्टर 1.0 से अधिक है तो इसका मतलब है कि मामले बढ़ रहे हैं। वहीं, 1.0 से कम R फैक्टर में कमी या कमी केस में कमी का संकेत देती है।

इसका अंदाजा इसी बात से भी लगाया जा सकता है कि अगर 100 लोग संक्रमित हैं। यदि वे 100 लोगों को संक्रमित करते हैं तो R मान 1 होगा। लेकिन यदि वे 80 लोगों को संक्रमित करने में सक्षम हैं तो यह R मान 0.80 होगा।

R मान बढ़ाने की चिंता क्यों करें?
मार्च में R मान बढ़कर 1.4 हो गया। इसके बाद 9 मई 2021 के बाद देश में R वैल्यू में गिरावट आई थी। 15 मई से 26 जून के बीच यह घटकर 0.78 पर आ गई थी। लेकिन 20 जून के बाद यह बढ़कर 0.88 हो गया। अब R मान 1.01 है। यानी मामले बहुत तेजी से बढ़ेंगे।

चेचक की तुलना में डेल्टा संस्करण तेजी से फैल सकता है
इससे पहले वैज्ञानिक कोरोना के डेल्टा वेरियंट को लेकर चिंता जता चुके हैं। अमेरिका की एक स्टडी में यह बात सामने आई थी कि चिकनपॉक्स जैसे लोगों में कोरोना का यह प्रकार तेजी से फैल सकता है। यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) का यह अध्ययन अभी तक प्रकाशित नहीं हुआ है, लेकिन न्यूयॉर्क टाइम्स में एक दस्तावेज प्रकाशित किया गया था। डेल्टा कोरोनावायरस के अन्य प्रकारों की तुलना में अधिक संक्रामक है। कुछ दिन पहले ब्रिटेन में 99% कोरोना पीड़ित डेल्टा में पाए गए थे।

वायरस पर की गई स्टडी में चिंता की बात यह थी कि जिन लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज मिल चुकी हैं, वे भी डेल्टा वैरिएंट को वैसे ही फैला सकते हैं, जिन्हें वैक्सीन नहीं मिली थी। सीडीसी के निदेशक डॉ. रोशेल पी. वैलेंस्की ने बताया था कि जिन लोगों को टीका लगाया गया है, उनके नाक और गले में वही वायरस होता है जो टीका नहीं लगाने वालों के होते हैं, जिससे यह आसानी से फैलता है।

डेल्टा वैरिएंट ने फिर डराया : एक कोरोना मरीज अब एक से अधिक लोगों को संक्रमित कर रहा है, एक महीने में आर वैल्यू 0.93 से बढ़कर 1.01 हो गई
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

डेल्टा वैरिएंट ने फिर डराया : एक कोरोना मरीज अब एक से अधिक लोगों को संक्रमित कर रहा है, एक महीने में आर वैल्यू 0.93 से बढ़कर 1.01 हो गई