Home Breaking News उपभोक्ताओं पर संबद्धता की मार, मनमानी कर रहे कोटेदार

उपभोक्ताओं पर संबद्धता की मार, मनमानी कर रहे कोटेदार

राशन वितरण घोटाले के चलते निलंबित हुई दुकानों को अन्य दुकानों के साथ संबद्ध करने का विभागीय फार्मूला फेल साबित हो रहा है। इसका खामियाजा राशनकार्ड धारकों को उठाना पड़ रहा है और कोटेदार मनमानी कर रहे हैं। कोई कोटेदार जगह की कमी बताकर बेबसी दिखा रहा है तो कोई दबंगई पर उतारू है।

विभाग ने 150 दुकानों को निरस्त कर अन्य दुकानों से संबद्ध किया था। तय किया था कि जिस कोटेदार को अतिरिक्त राशन वितरण का जिम्मा मिला है, वह टाइम टेबल बनाकर दोनों जगह पर राशन बांटेगा, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। कोई अपनी दुकान से राशन बांटने की रस्म अदायगी कर रहा है तो कोई जगह नहीं होने की बात कहकर राशन बांटने से पीछा छुड़ा रहा है।

जल्द होगी दुकानों की लॉटरी

राशन घोटाले के चलते जिन दुकानों को निलंबित कर दूसरी दुकानों के साथ संबद्ध किया गया था, उनमें से 51 दुकानों का पहले चरण में आवंटन हो चुका है। वर्तमान में 93 दुकानें संबद्ध हैं। विभाग इन दुकानों की आवंटन प्रक्रिया शुरू कर चुका है। चर्चा है कि जल्द ही इनकी लॉटरी प्रक्रिया संपन्न कराई जा सकती है।

Must Read

उपभोक्ताओं पर संबद्धता की मार, मनमानी कर रहे कोटेदार