Home Breaking News काबुल धमाकों से जुड़े भारत के तार, केरल के 14 जेहादी आतंकी...

काबुल धमाकों से जुड़े भारत के तार, केरल के 14 जेहादी आतंकी समूह ISIS-K से जुड़े

काबुल धमाकों से जुड़े भारत के तार, केरल के 14 जेहादी आतंकी समूह ISIS-K से जुड़े

आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत (ISIS-K) का भारत से कनेक्शन सामने आया है। बताया जा रहा है कि इस आतंकी संगठन से जुड़े केरल के रहने वाले 14 लोग काबुल में हमले की योजना में शामिल हैं।

whatsapp gif
advt

आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत (ISIS-K) का भारत से कनेक्शन सामने आया है। बताया जा रहा है कि इस आतंकी संगठन से जुड़े केरल के रहने वाले 14 लोग काबुल में हमले की योजना में शामिल हैं।  तालिबान ने अफगानी प्रांतों पर कब्जा करने के बाद  जेल के सभी कैदियों को रिहा कर दिया था, ये 14 लोग भी बगराम जेल में बंद थे जो रिहा होने के बाद खुरासान प्रांत के इस्लामिक स्टेट से जुड़ गए। इनमें से एक ने अपने घर पर संपर्क किया है, जबकि 13 लोग अभी भी ISIS-K का हिस्सा हैं।

dr vinit new

 बताया जा रहा है कि इन्होंने 26 अगस्त को काबुल में तुर्कमेनिस्तान दूतावास के बाहर आईईडी विस्फोट की भी योजना बनाई थी, जिसे नाकाम कर दिया गया। मामले में दो पाकिस्तानी के पकड़े जाने की भी खबर है। दो दिन पहले काबुल एयरपोर्ट के पास हुए हमलों में अमेरिका के 13 सैनिक समेत कम से कम 169 लोग मारे गए थे।

ortho

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, अफगानिस्तान की राजधानी काबुल हक्कानी नेटवर्क के नियंत्रण में है क्योंकि जादरान पश्तून पाकिस्तान की सीमा से लगे नांगरहार प्रांत और जलालाबाद-काबुल सीमा पर प्रभाव रखते हैं। ISIS-K नांगरहार प्रांत में भी सक्रिय है और पहले हक्कानी नेटवर्क के साथ काम कर चुका है।

तथाकथित इस्लामिक स्टेट ऑफ सीरिया एंड लेवंत के 2014 में मोसुल पर कब्जा करने के बाद केरल के मलप्पुरम, कासरगोड़ और कन्नूर जिले से ये लोग जिहादी समूह में शामिल होने मिडिल ईस्ट चले गए। इनमें से कुछ परिवार ISIS-K के तहत रहने के लिए अफगानिस्तान के नांगरहार प्रांत आ गए थे।

devanant hospital

भारत को इस बात की चिंता है कि तालिबान और उनके सहयोगी इन रेडिक्लाइज्ड केरल के इन उग्रवादियों का इस्तेमाल भारत की छवि को नुकसान पहुंचाने के लिए करेंगे। तालिबान दो पाकिस्तानियों की गिरफ्तारी को लेकर चुप्पी साध रखा है, लेकिन खुफिया रिपोर्टों से साफ है कि 26 अगस्त को काबुल एयरपोर्ट के पास हुए ब्लास्ट के तुरंत बाद तुर्कमेनिस्तान दूतावास के बाहर इन पाकिस्तानियों के पास से आईईडी बरामद हुई थी।

पंजाब

ISIS-K ने ली थी काबुल एयरपोर्ट हमले की जिम्मेदारी

काबुल एयरपोर्ट के पास हुए ब्लास्ट की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत ने ही ली थी। शुक्रवार को अमेरिका ने दावा किया कि यूएस सैनिकों ने ISIS-K के ठिकाने पर एयरस्ट्राइक की और हमले के साजिशकर्ता को मार गिराया। इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत को आईएसआईस-के, आईएसकेपी और आईएसके के नाम से भी जाना जाता है। यह अफगानिस्तान में सक्रिय इस्लामिक स्टेट आंदोलन से आधिकारिक रूप से संबद्ध है। इसे इराक और सीरिया में सक्रिय इस्लामिक स्टेट के मूल नेतृत्व से मान्यता मिली हुई है।

monika

ISIS-K की स्थापना आधिकारिक रूप से जनवरी 2015 में की गई। कुछ ही समय में इसने उत्तरी और उत्तर-पूर्वी अफगानिस्तान के विभिन्न ग्रामीण जिलों पर अपनी पकड़ बना ली और अफगानिस्तान एवं पाकिस्तान में घातक अभियान शुरू कर दिया। स्थापना के बाद शुरुआती 3 साल में आईसआईएस-के ने अफगानिस्तान और पाकिस्तान के प्रमुख शहरों में अल्पसंख्यक समूहों, सार्वजनिक स्थलों और संस्थानों तथा सरकारी संपत्तियों को निशाना बनाकर हमले किए थे।

ankit

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।

काबुल धमाकों से जुड़े भारत के तार, केरल के 14 जेहादी आतंकी समूह ISIS-K से जुड़े
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

काबुल धमाकों से जुड़े भारत के तार, केरल के 14 जेहादी आतंकी समूह ISIS-K से जुड़े