Home Breaking News विपरीत हालात में और विरोध के सामने बिना डिगे कार्य करने की...

विपरीत हालात में और विरोध के सामने बिना डिगे कार्य करने की अपनी खूबी को न गंवाए पत्रकार: प्रधान न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड

 

सहारनपुर। देश के सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने लोकतंत्र और स्वतंत्र पत्रकारिता के पक्ष में प्रमाणिक और सुस्पष्ट एवं दृढ़ विचार व्यक्त करते हुए कहा कि निष्पक्ष न्यायपालिका और स्वतंत्र पत्रकारिता भारतीय लोकतंत्र की बुनियाद है।

सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ बुधवार रात नई दिल्ली के आईटीसी मौर्य के कमल महल में आयोजित उत्कृष्ट पत्रकारिता समारोह में बतौर मुख्य अतिथि अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। पत्रकारों के समूह के बीच माननीय न्यायाधीश श्री चंद्रचूड़ सहज प्रफुल्लित और आत्म विश्वास की प्रतिमूर्ति नजर आ रहे थे। उन्होंने अपनी ख्याति और व्यक्तित्व के अनुरूप लोकतंत्र और पत्रकारिता को लेकर बहुत ही जरूरी और महत्वपूर्ण विचार रखे। जो लोकतंत्र के चौथे स्तंभ में भरोसा बढ़ाने वाले हैं। उन्होंने कहा कि भारत और दुनिया में सभी जगह पत्रकार मुश्किल और विपरीत हालात एवं विरोध का सामना करते हुए मजबूती से डटे रहकर अपना काम निष्पादित करते हैं। उनकी अपेक्षा है कि पत्रकार समुदाय अपने इस गुण को किसी भी सूरत में ना गंवाएं।

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को पत्रकारिता को एक ऐसी संस्था के रूप में विकसित करने को प्रोत्साहित करना चाहिए कि वे सत्ता से मुश्किल सवाल कर सकें और उसके सामने सत्य रखे। उन्होंने कहा कि किसी भी देश मे लोकतंत्र बने रहने के लिए प्रेस को स्वतंत्र रखना होगा। जिम्मेदार पत्रकारिता को सच्चाई की किरण बताते हुए उन्होंने कहा कि यह हमें बेहतर कल की ओर ले जा सकती है। यह ईंजन है जो सच्चाई, न्याय और समानता की खोज के आधार पर लोकतंत्र को आगे बढ़ाता है। उन्होंने आगे कहा कि डिजीटल समय की चुनौतियों के इस दौर में पत्रकारों के लिए अपनी रिपोर्टिंग में सटीकता, निष्पक्षता और जिम्मेदारी के मानकों को बनाए रखना पहले से कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण है। प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि घटनाओं को सामने लाने में मीडिया की भूमिका अहम है। भारत में समाचार पत्रों की लंबी परंपरा का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि उसने सामाजिक और राजनीतिक बदलावों में उत्प्रेरक के रूप में कार्य किया है। उन्होंने आन लाइन समाचार चैनलों की शुरूआत को रेखांकित करते हुए कहा कि इसमें मीडिया का लोक तांत्रिकीकरण किया है। उन्होंने कोविड-19 महामारी के दौरान पत्रकारिता के रोल को भी सराहा और कहा कि पूर्णबंदी के दौरान आम जनता के लिए सूचनाएं प्राप्त करना पूरी तरह से मीडिया पर ही आधारित रह गया था। देश के सबसे प्रमुख मीडिया घराने इंडियन एक्सप्रेस समूह के अध्यक्ष एवं एमडी विवेक  गोयनका ने कार्यक्रम में सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ का सम्मान करते हुए कहा कि उन्होंने न्यायपालिका में अपनी कार्यप्रणाली से जनता के भरोसे को बढ़ाया है।

अदालत के निर्णय लेने में पारदर्शिता लाने के उनके कदम, न्यायालय की भूमिका और इसकी सीमाओं पर उनके विचारशील, सूक्ष्म प्रतिबिंब मतभेदों को लेकर उनकी स्वीकृति स्थाई सुधार हैं। जिससे न्याय पालिका मजबूत होगी। समारोह में पहुंचने पर सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ की अगवानी एक्सप्रेस ग्रुप के चेयरमैन विवेक गोयनका, उनके पुत्र एक्सप्रेस समूह के कार्यकारी निदेशक अनंत गोयनका ने गर्मजोशी के साथ की। सीजेआई के भाषण के दौरान अगली पंक्ति में बैठी जानी-मानी हस्तियों में हाल में मौजूद तमाम लोगों ने अनेक बार तालियों की गड़गड़ाहट से हाल को गुंजायमान किया। इन पंक्तियों के लेखक वरिष्ठ पत्रकार सुरेंद्र सिंघल ने देखा कि सीजीआई की उपस्थिति लोगों की आंखों में एक नई चमक पैदा कर रही थी और उनमें संपूर्ण भरोसे का अहसास करा रही थी। समारोह में भारतीय लोकतंत्र और पत्रकारिता के मूल स्तंभ एवं महात्मा गांधी के करीबियों में शामिल रामनाथ गोयनका को भावपूर्ण ढंग से याद किया गया। इंडियन एक्सप्रेस समूह के प्रधान संपादक राजकमल झा ने सीजेआई का आभार जताते हुए कहा कि उनके नजरिए और चेतावनियों से यह भरोसा मजबूत होता है कि सुप्रीम कोर्ट पत्रकारों और पत्रकारिता के लिए ध्रुवतारा बना रहेगा और अदालतें हमारी स्वतंत्रता को विस्तारित करने के लिए सत्ता पर दबाव बनाती रहेंगी। इस प्रमुख समारोह में देश के प्रमुख पत्रकार शेखर गुप्ता, अरूण शौरी, जनसत्ता समूह के संपादक मुकेश भारद्वाज, आज तक के राहुल कंवल, नीरजा चौधरी, केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर, पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और कपिल सिब्बल, मनीष तिवारी, केजे अल्फोंस, पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त एसवाई कुरैशी एवं नसीम जैदी और सुनील अरोड़ा, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता, दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश एपी शाह, सीपीआई नेता डी. राजा, भाजपा सांसद अनिल बलोनी, मनोज तिवारी, संजय जायसवाल समेत तमाम जानी-मानी हस्तियां मौजूद थीं।

.

News Source: https://royalbulletin.in/journalist-chief-justice-dy-chandrachud-should-not-lose-his-quality-of-working-without-wavering-in-adverse-circumstances-and-in-the-face-of-opposition/24227

विपरीत हालात में और विरोध के सामने बिना डिगे कार्य करने की अपनी खूबी को न गंवाए पत्रकार: प्रधान न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

विपरीत हालात में और विरोध के सामने बिना डिगे कार्य करने की अपनी खूबी को न गंवाए पत्रकार: प्रधान न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड