Home Breaking News बेटे के हाथ में मां का शव : तालाब में ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटने...

बेटे के हाथ में मां का शव : तालाब में ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटने से लोगो को बचा रहे थे डीआरजी जवान, अपनी ही मां का शव आया हाथ में

बेटे के हाथ में मां का शव : तालाब में ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटने से लोगो को बचा रहे थे डीआरजी जवान, अपनी ही मां का शव आया हाथ में

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में सोमवार को एक ट्रैक्टर ट्राली के तालाब में पलट जाने से चार लोगों की मौत हो गयी. इस दौरान एक हैरान कर देने वाली घटना हुई। डीआरजी की टीम जब रेस्क्यू में लगी तो उसकी मां का शव उस जवान के हाथ में आ गया. उसे पता भी नहीं था कि इस ट्रैक्टर-ट्रॉली में उसकी मां सवार थी।

हादसे के वक्त डीआरजी के जवान तलाश कर रहे थे
बताया जा रहा है कि हादसे के वक्त डीआरजी (जिला रिजर्व ग्रुप) के जवान तेलम-टाटम इलाके में तलाशी पर निकले थे. तभी उसने लोगों की चीख-पुकार सुनी। मौके पर पहुंचे तो ट्रैक्टर-ट्राली तालाब में डूबी मिली। लोगों को बचाने के लिए वे पानी में कूद पड़े। इनमें युवा वासु कवासी भी शामिल थे।

कुछ लोग ट्रॉली के नीचे दबे थे। गांव के लोगों ने ट्रॉली को उठाया तब इसके नीचे से निकाला जा सका।

मां का चेहरा देखकर युवक फूट-फूट कर रोने लगा।
इन जवानों ने एक-एक कर लोगों को बाहर निकाला और उनकी जान बचाई। बाद में उन्होंने देखा कि ट्रॉली पानी में उलटी पड़ी है। तो अपने नीचे के लोगों की भी तलाश शुरू कर दी। वसु के हाथ में एक स्त्री का शव आया। वह उसे बाहर ले आया और उसका चेहरा देखते ही फूट-फूट कर रोने लगा। यह शरीर उनकी अपनी मां फुके कवासी का था। साथी सैनिकों ने उसे किसी तरह संभाला।

DRG जवान वसू कवासी को संभालते उसके साथी और दंतेवाड़ा की जिला पंचायत अध्यक्ष। - Dainik Bhaskar
DRG जवान वसू कवासी को संभालते उसके साथी और दंतेवाड़ा की जिला पंचायत अध्यक्ष।

19 लोग घायल, 5 की हालत नाजुक
फुके कवासी कटेकल्याण प्रखंड के टाटम के रहने वाले थे. वह आदिवासी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने के लिए इसी गांव के 25-30 लोगों के साथ हीरानार जा रही थी. हादसे में फुके कवासी के अलावा 9 साल के दिनेश मरकाम, 16 साल के दसाई कवासी और 35 साल के कोसा मडवी की भी मौत हो गई। 19 लोग घायल हैं। इनमें से 5 लोगों की हालत नाजुक है।

गड्ढे से हुआ हादसा
आसपास के लोगों के मुताबिक सड़क के एक तरफ गड्ढा था और दूसरी तरफ एक छोटा तालाब. इससे ट्रैक्टर चालक काबू नहीं कर पाया और तालाब में गिर गया। हादसे के बाद जो लोग सुरक्षित बच गए वे वहां से चले गए।

बेटे के हाथ में मां का शव : तालाब में ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटने से लोगो को बचा रहे थे डीआरजी जवान, अपनी ही मां का शव आया हाथ में

4-4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता की घोषणा
हादसे पर दुख जताते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है. यह सहायता राशि सड़क दुर्घटनाओं में सरकार द्वारा दी जाने वाली सहायता के अतिरिक्त होगी।

बेटे के हाथ में मां का शव : तालाब में ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटने से लोगो को बचा रहे थे डीआरजी जवान, अपनी ही मां का शव आया हाथ में
बेटे के हाथ में मां का शव : तालाब में ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटने से लोगो को बचा रहे थे डीआरजी जवान, अपनी ही मां का शव आया हाथ में
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

बेटे के हाथ में मां का शव : तालाब में ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटने से लोगो को बचा रहे थे डीआरजी जवान, अपनी ही मां का शव आया हाथ में