Home Breaking News टेरर फंडिंग में NIA की सबसे बड़ी कार्रवाई, जमात-ए-इस्लामी के 45 ठिकानों...

टेरर फंडिंग में NIA की सबसे बड़ी कार्रवाई, जमात-ए-इस्लामी के 45 ठिकानों पर छापेमारी

टेरर फंडिंग में NIA की सबसे बड़ी कार्रवाई, जमात-ए-इस्लामी के 45 ठिकानों पर छापेमारी
टेरर फंडिंग केस में  NIA ने जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ की सहायता से रविवार को जम्मू-कश्मीर के 14 जिलों में 45 स्थानों पर छापेमारी की है। 

जम्मू-कश्मीर में टेरर फंडिंग मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए प्रतिबंधित संगठन जमात-ए-इस्लामी के सदस्यों के घरों की तलाशी ली। NIA ने जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ की सहायता से रविवार को जम्मू-कश्मीर के 14 जिलों में 45 स्थानों पर छापेमारी की है।  इन जिलों में श्रीनगर, पुलवामा, कुपवाड़ा, डोडा, किश्तवाड़, रामबन, अनंतनाग, बड़गाम, राजौरी और शोपियां भी शामिल हैं। टेरर फंडिंग केस में एनआईए की अब तक की ये सबसे बड़ी कार्रवाई बताई जा रही है। दरअसल जमात-ए-इस्लामी संगठन की पाकिस्तान समर्थक और अलगाववादी नीतियों के चलते 2019 में केंद्र सरकार ने इस पर प्रतिबंध लगा दिया था, लेकिन इसके बावजूद जम्मू-कश्मीर में इस संगठन की गतिविधियां जारी हैं। 

dr vinit

NIA ने 10 जुलाई को टेरर फंडिंग मामले में जम्मू-कश्मीर में 6 लोगों को गिरफ्तार किया था। इस रेड से एक दिन पहले ही जम्मू-कश्मीर सरकार के 11 कर्मचारियों को आतंकी कनेक्शन होने के चलते नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया था। इसमें से दो आरोपी हिज्बुल-मुजाहिदीन के सरगना सयैद सलाहुद्दीन के बेटे थे। हिज्बुल-मुजाहिदीन के चार कथित आंतकियों के खिलाफ सबूत मिले थे कि उन्होंने जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान से पैसे लिए थे। दिल्ली की एक कोर्ट ने इस मामले में उनके खिलाफ आरोप तय करने का आदेश दिया था।

कोर्ट ने इन चारों कथित आतंकियों पर क्रिमिनल कॉन्स्पिरेसी, देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने और UAPA के तहत कई चार्ज लगाने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा था कि हिज्बुल-मुजाहिदीन ने जम्मू-कश्मीर अफेक्टीज रिलीफ ट्रस्ट (JKART) नाम से फर्जी ऑर्गेनाइजेशन बनाया था। इसका असली मकसद आतंकी गतिविधियों को फंडिंग करना था। इस ट्रस्ट से आतंकियों और उनके परिवारों को पैसे दिए जाते हैं।

इन जगहों पर चल रही है छापेमारी

  1. श्रीनगर में सौरा निवासी गाजी मोइन-उल इस्लाम के आवास और नौगाम में फलाह-ए-आम ट्रस्ट पर छापेमारी की जा रही है। 
  2. अनंतनाग जिले में मुश्ताक अहमद वानी पुत्र गुलाम हसन वानी, नजीर अहमद रैना पुत्र गुलाम रसूल रैना, फारूक अहमद खान पुत्र मोहम्मद याकूब खान और आफताक अहमद मीर, अहमदुल्ला पारे के ठिकानों पर भी छापेमारी
  3. बडगाम जिले में सोइबुग के रहने वाले डॉ. मोहम्मद सुल्तान भट, गुलाम मोहम्मद वानी और गुलजार अहमद शाह समेत कई जमात नेताओं के आवासों पर छापेमारी
  4. बांदीपोरा में पूर्व जमात अध्यक्ष के आवास की तलाशी ली जा रही है। उसकी पहचान मोहम्मद सिकंदर मलिक पुत्र अब्दुल गनी मलिक निवासी गुंडपोरा के रूप में हुई है। 
  5. इसी तरह गांदरबल, शोपियां, कुलगाम, बारामुला, पुलवामा, रामबन, डोडा समेत कई अन्य जिलों में छापेमारी जारी है। 
टेरर फंडिंग में NIA की सबसे बड़ी कार्रवाई, जमात-ए-इस्लामी के 45 ठिकानों पर छापेमारी
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

टेरर फंडिंग में NIA की सबसे बड़ी कार्रवाई, जमात-ए-इस्लामी के 45 ठिकानों पर छापेमारी