Saturday, February 4, 2023
No menu items!

शादी में एक रुपया भी दहेज में नहीं लिया, मैं शपथ लेता हूँ, सरकारी कर्मचारी ले रहे कार्यालय में शपथ, जाने कारण

Must Read

एसपी ऑफिस के बाहर लगा ‘गर्व से कहो हम ब्राह्मण’ का पोस्टर, दो दिन पहले लिखा था ‘गर्व से कहो हम शूद्र हैं’

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में समाजवादी पार्टी (सपा) के कार्यालय के बाहर रामचरितमानस से जुड़ा एक पोस्टर लगाया गया...

वंदे भारत के मद्देनजर बीकानेर में बनेगी नई वाशिंग लाइन लाइन दोहरीकरण का भी होगा काम-डीपीआर भेजी

बीकानेर। बीकानेर के डीआरएम राजीव श्रीवास्तव ने बताया कि एलएचबी कोच को देखते हुए बीकानेर स्टेशन पर वर्तमान...
The Sabera Desk
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera
शादी में एक रुपया भी दहेज में नहीं लिया, मैं शपथ लेता हूँ, सरकारी कर्मचारी ले रहे कार्यालय में शपथ, जाने कारण

मैं शपथ लेता हूं कि मैंने शादी में एक रुपया दहेज नहीं लिया। इन दिनों सरकारी कार्यालयों में कार्यरत कर्मचारी हलफनामे पर लिखकर ये शपथ पत्र दे रहे हैं। पिछले 15 दिनों में 534 कर्मचारियों ने हलफनामा दाखिल किया है। अगर आप सरकारी कर्मचारी हैं और 2004 के बाद आपकी शादी हुई है तो आपको एक हलफनामा देना होगा।Read Also:-आर्यन खान की एक और रात, समय पर जेलर तक नहीं पहुंचा एनडीपीएस कोर्ट का रिहाई आदेश

Shudh bharat

जिले में अधिकारियों से लेकर कर्मचारियों तक इसकी जानकारी मांगी जा रही है। महिला एवं बाल कल्याण विभाग के निदेशक की ओर से पिछले माह सभी जिलों को पत्र भेजा गया है. इसमें उन कर्मचारियों और अधिकारियों से दहेज का ब्योरा मांगा गया है जिनकी शादी 2004 के बाद हुई है। नियमों के मुताबिक कर्मचारियों को डिक्लेरेशन फॉर्म जमा करना होगा। घोषणा पत्र में कर्मचारियों को यह बताना होगा कि उन्होंने अपनी शादी के दौरान दहेज लिया था या नहीं। 31 अप्रैल 2004 के बाद विवाहित सरकारी कर्मचारियों के लिए यह घोषणा देना अनिवार्य होगा। यदि कोई सरकारी कर्मचारी घोषणा पत्र जमा नहीं करता है तो उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

मेरठ शहर में शादी, सगाई और अन्य आयोजनों में फैंसी पंडाल, फूलों की स्टेज, गद्दे, बिस्तर, क्रॉकरी व अन्य सामान के लिए संपर्क करें
गुप्ता टेंट हाउस एंड वेडिंग प्लानर : 82184346947397978781

व्यवस्था के अनुसार प्रतिदिन 15 से 20 कर्मचारी अपने-अपने विभागों में शपथ पत्र प्रस्तुत कर रहे हैं। जब भी कोई हलफनामा लेकर आता है तो उस पत्र को लेकर कर्मचारियों के बीच खूब चर्चा होती है. कर्मचारी आपस में जमकर चुटकी लेते भी नजर आ रहे हैं।

news shorts

कार चलाते हैं इनोवा और अर्टिगा और शपथ ले रहे हैं नहीं लिया दहेज
हैरान करने वाली बात यह है कि अर्टिगा और इनोवा से आने वाले कई कर्मचारी ऐसे हैं जिन्होंने 2004 के बाद शादी की है, जिनकी सैलरी 40 से 45 हजार के बीच होगी। हलफनामे पर लिख रहे कर्मचारियों ने एक भी रुपया दहेज नहीं लिया।

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।

advt.
- Advertisement -शादी में एक रुपया भी दहेज में नहीं लिया, मैं शपथ लेता हूँ, सरकारी कर्मचारी ले रहे कार्यालय में शपथ, जाने कारण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -शादी में एक रुपया भी दहेज में नहीं लिया, मैं शपथ लेता हूँ, सरकारी कर्मचारी ले रहे कार्यालय में शपथ, जाने कारण
Latest News

एसपी ऑफिस के बाहर लगा ‘गर्व से कहो हम ब्राह्मण’ का पोस्टर, दो दिन पहले लिखा था ‘गर्व से कहो हम शूद्र हैं’

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में समाजवादी पार्टी (सपा) के कार्यालय के बाहर रामचरितमानस से जुड़ा एक पोस्टर लगाया गया...

वंदे भारत के मद्देनजर बीकानेर में बनेगी नई वाशिंग लाइन लाइन दोहरीकरण का भी होगा काम-डीपीआर भेजी

बीकानेर। बीकानेर के डीआरएम राजीव श्रीवास्तव ने बताया कि एलएचबी कोच को देखते हुए बीकानेर स्टेशन पर वर्तमान में वाशिंग लाइन अपर्याप्त है....

यमुनानगर में महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन

यमुनानगर। शहर यमुनानगर के नेहरू पार्क में शनिवार को कांग्रेस के युवा कार्यकर्ताओं ने महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ प्रदर्शन किया और सरकार...
- Advertisement -शादी में एक रुपया भी दहेज में नहीं लिया, मैं शपथ लेता हूँ, सरकारी कर्मचारी ले रहे कार्यालय में शपथ, जाने कारण

More Articles Like This

- Advertisement -शादी में एक रुपया भी दहेज में नहीं लिया, मैं शपथ लेता हूँ, सरकारी कर्मचारी ले रहे कार्यालय में शपथ, जाने कारण