Home Breaking News निजी दुश्मनी निकालने के लिए नहीं हो न्याय प्रक्रिया का इस्तेमाल :...

निजी दुश्मनी निकालने के लिए नहीं हो न्याय प्रक्रिया का इस्तेमाल : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट  ने कहा कि निजी दुश्मनी निकालने के हथियार के तौर पर न्याय प्रणाली का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। बेकार की याचिकाओं में कमी लाना प्रभावी न्यायिक प्रणाली की दिशा में एक अहम कदम हो सकता है जहां अधीनस्थ अदालतों में 70 फीसद मामले लंबित हैं।निजी दुश्मनी निकालने के लिए नहीं हो न्याय प्रक्रिया का इस्तेमाल : सुप्रीम कोर्टजस्टिस एमएम शांतनागौदर और जस्टिस आरएस रेड्डी की पीठ ने कहा कि देश में फालतू की याचिकाओं का चलन नहीं बनना चाहिए, क्योंकि गलत तरीके से आरोपित बनाए गए व्यक्ति को न सिर्फ पैसों का नुकसान होता है बल्कि समाज में उसे बदनामी का भी सामना करना पड़ता है। पीठ ने कहा कि निचली अदालतों का दायित्व है कि वे उचित मामलों में आरोपित को बरी करके फालतू की याचिकाओं को मुकदमे के चरण में ही रोक देना चाहिए।

Must Read

निजी दुश्मनी निकालने के लिए नहीं हो न्याय प्रक्रिया का इस्तेमाल : सुप्रीम कोर्ट