Home Breaking News संक्रमण का अड्डा न बन जाए मेरठ का भैंसाली स्टैंड

संक्रमण का अड्डा न बन जाए मेरठ का भैंसाली स्टैंड

कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। बावजूद इसके बस अड्डों पर बचाव को लेकर आमजन में जागरूकता की कमी है। रोडवेज में स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) के अनुपालन के प्रति सरकारी तंत्र लापरवाह है। स्वास्थ्य विभाग के दिशा निर्देश केवल पोस्टर और उद्घोषणा तक सीमित हैं। भैंसाली बस अड्डे पर स्टाफ और यात्रियों को देख कर लगता ही नहीं यहां पर कोरोना संक्रमण को लेकर कोई खौफ है।

न दिल्ली जाने वाली बसों के प्रवेश द्वार और न ही मुजफ्फरनगर जाने वाली बसों के निकासी द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग हो रही है। मुजफ्फरनगर बूथ के पास पैर से पुश कर हाथों को सैनिटाइज करने वाला जुगाड़ रखा है पर कोई यात्री हाथों को सैनिटाइज नहीं कर रहा है। 12.06 बजे बस अड्डे पर जगह-जगह चालक-परिचालक खड़े हैं, जिनमें अधिकतर के चेहरे पर मास्क नहीं है। एक पुरुष तीन बच्चों और महिला के साथ गंतव्य को जाने के लिए बस ढूंढ रहा है। महिला के सिवाय किसी ने मास्क नहीं पहन रखा है।

Must Read

संक्रमण का अड्डा न बन जाए मेरठ का भैंसाली स्टैंड