Friday, February 3, 2023
No menu items!

प्लाज्मा देने में कांपे कोरोना योद्धा, वायरस से आजादी ही असली जंग

Must Read

क्रय केंद्र पर ड्यूटी के दौरान चौकीदार की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, खेत में मिला शव

मेरठ। परीक्षितगढ़ के सोना गांव स्थित गन्ना क्रय केंद्र पर ड्यूटी के दौरान एक चौकीदार की संदिग्ध परिस्थितियों...

मुजफ्फरनगर में आगामी 7 फरवरी को जिलाधिकारी कार्यालय पर रालोद करेगा विशाल धरना प्रदर्शन

मुजफ्फरनगर। मुजफ्फरनगर में आगामी 7 फरवरी को जिलाधिकारी कार्यालय पर रालोद विशाल धरना प्रदर्शन करेगा। जनपद में रालोद के...

लक्ष्य से 34% अधिक एनएसवी के साथ जिला पहली बार “ए” श्रेणी में पहुंचा।

गाज़ियाबाद। परिवार नियोजन के मामले में हमारा जिला पहली बार “डी” से “ए” श्रेणी में आया है। ...
Avatar
Deepak Singhhttps://www.apnameerut.com
Deepak Singh is a resident of Meerut and working as a content writer for various agencies. He is proficient in Sports news, Bollywood news, and local city news.

कोरोना से जंग जीतकर बाहर निकले मरीजों और इलाज में जुटे डाक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ को कोरोना योद्धा का दर्जा दिया गया। सैकड़ों मरीज ठीक हुए। हालांकि अब, डाक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ भी वायरस की चपेट में आ रहे हैं। ज्यादातर ठीक होकर बाहर आए, लेकिन प्लाज्मा देने को लेकर ठिठक गए। नई दिल्ली सरकार ने प्जाज्मा बैंक खोला। वहां ठीक हो चुके सैकड़ों मरीज प्लाज्मा डोनेट कर दूसरे मरीजों की जान बचाने में लगे हैं।

मेरठ मेडिकल कालेज में भी प्लाज्मा थेरपी को हरी झंडी मिल गई है। प्रशासन ने ठीक हो चुके ऐसे 209 लोगों की सूची बनाई, जिनका प्लाज्मा गंभीर मरीजों को चढ़ाकर उनकी प्रतिरोधक क्षमता को तत्काल बढ़ाया जा सकता था। उम्मीद थी कि ठीक हो चुके लोग दूसरों का जीवन बचाने खुद आगे आएंगे, लेकिन उनका योद्धा धराशायी हो गया, जबकि वो दूसरों की जिंदगी बचा सकते थे।

लाकडाउन के बाद प्रकृति निखर सी गई थी। हवा में विषाक्त गैसों और कणों की मात्रा घटने से पर्यावरण साफ हो गया। विशेषज्ञों का आकलन था कि इस बार सावन और भादो में मेघों की गरज बरस नए रिकार्ड कायम करेगी। नई दिल्ली तक जमकर बारिश हुई, लेकिन अब तक मेरठ के बादलों में मेघों की आवारगी ही नजर आई है।

एक वायरस ने दुनिया पर कई माह से ग्रहण लगा रखा है। कोरोना ने होली का रंग फीका किया तो आजादी के जश्न में रोड़ा लगा दिया। क्रांति के शहर में कदाचित पहली बार 15 अगस्त को सड़कों पर ऐसा सन्नाटा नजर आया। पार्कों में भीड़ नहीं थी और कालेजों में जश्न महज एक औपचारिकता के रूप में मना।

- Advertisement -प्लाज्मा देने में कांपे कोरोना योद्धा, वायरस से आजादी ही असली जंग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -प्लाज्मा देने में कांपे कोरोना योद्धा, वायरस से आजादी ही असली जंग
Latest News

क्रय केंद्र पर ड्यूटी के दौरान चौकीदार की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, खेत में मिला शव

मेरठ। परीक्षितगढ़ के सोना गांव स्थित गन्ना क्रय केंद्र पर ड्यूटी के दौरान एक चौकीदार की संदिग्ध परिस्थितियों...

मुजफ्फरनगर में आगामी 7 फरवरी को जिलाधिकारी कार्यालय पर रालोद करेगा विशाल धरना प्रदर्शन

मुजफ्फरनगर। मुजफ्फरनगर में आगामी 7 फरवरी को जिलाधिकारी कार्यालय पर रालोद विशाल धरना प्रदर्शन करेगा। जनपद में रालोद के जिम्मेदार नेताओ ने पार्टी कार्यालय...

लक्ष्य से 34% अधिक एनएसवी के साथ जिला पहली बार “ए” श्रेणी में पहुंचा।

गाज़ियाबाद। परिवार नियोजन के मामले में हमारा जिला पहली बार “डी” से “ए” श्रेणी में आया है। परिवार नियोजन के प्रति लोगों...

मुजफ्फरनगर में सीएमओ ने समीक्षा बैठक कर कुष्ठ रोग से निजात दिलाने का लिया निर्देश

मुजफ्फरनगर। राष्ट्रीय कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम के तहत शुक्रवार को रेडक्रास भवन में समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया. बैठक को संबोधित करते...

एमएलसी चुनाव को लेकर अखिलेश बोले, ‘भाजपा बेईमानी से एक-दूसरे को बधाई दे रही’

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एमएलसी चुनाव में हार के बाद बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी को...
- Advertisement -प्लाज्मा देने में कांपे कोरोना योद्धा, वायरस से आजादी ही असली जंग

More Articles Like This

- Advertisement -प्लाज्मा देने में कांपे कोरोना योद्धा, वायरस से आजादी ही असली जंग