Tuesday, January 31, 2023
No menu items!

टीवी-एसी (TV-AC) और फ्रिज समेत इन चीजों के दाम 5 फीसदी बढ़ सकते हैं, रुपये की गिरावट से महंगा हुआ आयात (Imports)

Must Read
The Sabera Desk
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera
टीवी-एसी (TV-AC) और फ्रिज समेत इन चीजों के दाम 5 फीसदी बढ़ सकते हैं, रुपये की गिरावट से महंगा हुआ आयात (Imports)

डॉलर के मुकाबले रुपया रिकॉर्ड निचले स्तर पर, अब इसका असर आम जनता की जेब पर पड़ सकता है। उद्योग के जानकारों के मुताबिक इस महीने के अंत तक या अगले महीने जून से घरेलू उपकरणों और उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स वस्तुओं जैसे टेलीविजन, वॉशिंग मशीन और रेफ्रिजरेटर यानी फ्रिज की कीमतों में 3 से 5 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है।Read Also:-महंगाई का लगने वाला है एक और झटका! आटा, ब्रेड और बिस्कुट समेत ये उत्पाद (Products) अगले महीने से हो जाएंगे महंगे

ग्राहकों की जेब पर पड़ेगा असर
उद्योग जगत के सूत्रों के मुताबिक रुपये के कमजोर होने और बढ़ती महंगाई से मैन्युफैक्चरिंग कॉस्ट में जबरदस्त इजाफा हुआ है। इसकी भरपाई के लिए कंपनियां मजबूर होकर ग्राहकों पर इसका बोझ डाल रही हैं। सूत्रों के अनुसार, अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये के मूल्यह्रास ने विनिर्माण संकट में इजाफा किया है क्योंकि आयातित कलपुर्जे महंगे हो गए हैं और उद्योग महत्वपूर्ण भागों के लिए आयात पर बहुत अधिक निर्भर है।

यह भी कारण है
इसके अलावा चीन में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के चलते लगाए गए सख्त लॉकडाउन के चलते शंघाई बंदरगाह पर कई जहाज खड़े हैं। ऐसे में कलपुर्जों की कमी की समस्या बढ़ गई है और निर्माताओं के स्टॉक पर दबाव बढ़ गया है। कई ऐसे उत्पाद जो काफी हद तक आयात पर निर्भर हैं, बाजार से गायब हैं।
कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन (सिएमा) ने कहा कि अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये के मूल्यह्रास (गिरावट) ने उद्योग के लिए मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

क्या कहते हैं बाजार के जानकार?
सिएमा के अध्यक्ष एरिक ब्रेगेंजा ने कहा, “कच्चे माल की कीमतें पहले से बढ़ रही हैं और अब अमेरिकी डॉलर मजबूत हो रहा है, रुपया कमजोर हो रहा है, इसलिए सभी निर्माताओं को न्यूनतम लाभ की उम्मीद है। जून से कीमतों में तीन से पांच फीसदी की बढ़ोतरी होगी। कुछ एसी निर्माताओं ने मई में ही कीमतों में वृद्धि की है, अन्य इस महीने के अंत या जून में कीमतों में वृद्धि करेंगे।

टीवी-एसी (TV-AC) पर सबसे ज्यादा असर
हायर अप्लायंसेज इंडिया के अध्यक्ष सतीश एनएस ने कहा कि शंघाई में लॉकडाउन के कारण कल-पुर्जों की आपूर्ति बाधित हुई है, जिसका असर जून से दिखना शुरू हो जाएगा. उन्होंने कहा, “एसी और फ्लैट पैनल टीवी का बहुत अधिक प्रभाव पड़ेगा, जबकि रेफ्रिजरेटर का प्रभाव कम होगा।”

पैनासोनिक इंडिया ने कहा
पैनासोनिक इंडिया और दक्षिण एशिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) मनीष शर्मा ने कहा कि लागत का दबाव लगातार बढ़ रहा है। हालांकि, कंपनी उपभोक्ताओं पर कम से कम प्रभाव डालने की कोशिश कर रही है। “पिछली बार कीमतों में बढ़ोतरी जनवरी 2022 में की गई थी। हालांकि, कमोडिटी की बढ़ती कीमतों के कारण, विभिन्न उत्पादों की कीमतों में चार से पांच प्रतिशत की वृद्धि की जा सकती है।

whatsapp gif

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।

- Advertisement -टीवी-एसी (TV-AC) और फ्रिज समेत इन चीजों के दाम 5 फीसदी बढ़ सकते हैं, रुपये की गिरावट से महंगा हुआ आयात (Imports)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -टीवी-एसी (TV-AC) और फ्रिज समेत इन चीजों के दाम 5 फीसदी बढ़ सकते हैं, रुपये की गिरावट से महंगा हुआ आयात (Imports)
Latest News

हिसार में सोशल मीडिया पर हथियार के साथ फोटो पोस्ट करने पर सात के खिलाफ केस दर्ज

हिसार। सोशल मीडिया पर हथियार के साथ फोटो डालने वालों पर पुलिस नजर रख रही है। पुलिस ने सोशल मीडिया पर हथियार...

पुलिस हिरासत में व्यवसायी की मौत के मामले में दो अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

सोनभद्र (उप्र)। पूर्व अनुविभागीय दंडाधिकारी (एसडीएम) राजेश कुमार सिंह और तहसीलदार बृजेश कुमार वर्मा के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया गया...
- Advertisement -टीवी-एसी (TV-AC) और फ्रिज समेत इन चीजों के दाम 5 फीसदी बढ़ सकते हैं, रुपये की गिरावट से महंगा हुआ आयात (Imports)

More Articles Like This

- Advertisement -टीवी-एसी (TV-AC) और फ्रिज समेत इन चीजों के दाम 5 फीसदी बढ़ सकते हैं, रुपये की गिरावट से महंगा हुआ आयात (Imports)