Home Breaking News एनएसजी कमांडो बनकर मैनेजर से 72 हजार की ठगी

एनएसजी कमांडो बनकर मैनेजर से 72 हजार की ठगी

एनएसजी कमांडो बनकर साइबर ठग ने मेरठ के मैनेजर को 72 हजार रुपये का फटका लगा दिया। स्कूटी खरीदने के नाम पर सौदा किया और खाते में पैसा डलवा लिया। इसके बाद उसने मोबाइल नंबर बंद कर दिया। मामले में पीड़ित मैनेजर ने नौचंदी थाने और साइबर सेल को शिकायत दी है। फौजी बनकर ठगी के मामलों के बाद कमांडो बनकर ठगी करने का नया तरीका साइबर ठगों ने निकाला है। साथ ही ओएलएक्स की जगह इस बार दूसरी ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट का सहारा लिया गया। साइबर सेल मेरठ ने जांच शुरू कर दी है।

आकाश वर्मा शास्त्रीनगर निवासी हैं और एक कंपनी में मैनेजर हैं। आकाश को फेसबुक मार्केट प्लेस पर खरीदारी करनी थी। यहां उन्होंने स्कूटी खरीदने के लिए तलाश शुरू की। विनीत नामक युवक ने खुद को एनएसजी कमांडो बताया और कहा कि वह अपनी स्कूटी बेचना चाहता है। ऑनलाइन बातचीत के बाद दोनों ने वीडियो कॉल भी कर ली। आकाश को विश्वास हो गया कि युवक एनएसजी कमांडो है और मानेसर में तैनात है।

इसके बाद आकाश ने बताए गए खाते में 15 से 20 हजार रुपये ट्रांजक्शन करते हुए कुल 72 हजार रुपये ट्रांसफर किए। इसके साथ ही दूसरी ओर से आरोपी ठग ने आकाश को कुछ फर्जी डिलीवरी के लिए कराई गई रसीद भेज दी। चार दिन बाद भी जब स्कूटी के संबंध में कोई अपडेट नहीं मिला तो आकाश ने उसके नंबर पर फोन किया। नंबर बंद मिला तो शक होने पर आकाश ने पुलिस से संपर्क किया। आकाश ने रविवार को नौचंदी थाने पहुंचकर आरोपी के फोटो समेत शिकायत दर्ज कराई। साथ ही साइबर सेल में भी शिकायत दी गई है।

Must Read

एनएसजी कमांडो बनकर मैनेजर से 72 हजार की ठगी