Shameful…टायर चोरी में कांस्टेबल समेत 2 मैकेनिक गिरफ्तार, गाजियाबाद में इंस्पेक्टर की गाड़ी के लिए सिपाही ने सीज हुई कार से टायर निकलवाया।

0
485
Shameful…टायर चोरी में कांस्टेबल समेत 2 मैकेनिक गिरफ्तार, गाजियाबाद में इंस्पेक्टर की गाड़ी के लिए सिपाही ने सीज हुई कार से टायर निकलवाया।

उत्तर प्रदेश की गाजियाबाद पुलिस एक बार फिर दागी हुई है। पुलिस लाइन में खड़ी कार से टायर चोरी करने के आरोप में एक कांस्टेबल और दो मैकेनिक को गिरफ्तार किया गया है। यह टायर एक इंस्पेक्टर की कार में लगाया गया। इंस्पेक्टर से भी पूछताछ की जा चुकी है। इनके खिलाफ जल्द कार्रवाई की जा सकती है। वहीं, सिपाही को सस्पेंड कर दिया गया है।Read Also:-क्रेन में फंसे भारतीय छात्रों के साथ बदसलूकी का वीडियो वायरल, राहुल गांधी बोले- हम अपने लोगों को इस तरह नहीं छोड़ सकते

कार को लेने पहुंचा मालिक, तब हुआ भंडाफोड़
गाजियाबाद के लिंक रोड थाना क्षेत्र के रहने वाले सोनू की कार को पुलिस ने कुछ दिन पहले जब्त किया था। कोर्ट ने हाल ही में उनकी कार को छोड़ने का आदेश दिया था। रविवार को सोनू कोर्ट का आदेश लेते हुए पुलिस लाइन पहुंचे। इस दौरान कार में स्टेपनी टायर नहीं थे। पास में ही दो युवक खड़े मिले, जिनके हाथों में टायर खोलने का औजार था। सोनू ने टायर चोरी की आशंका जताई तो पुलिस लाइन इंस्पेक्टर (आरआई) उदल सिंह मौके पर पहुंचे। उन्होंने वहां खड़े मैकेनिक यूनुस और नावेद से पूछताछ शुरू की तो उन्होंने कार से टायर निकालने की बात स्वीकार की ।

इंस्पेक्टर मेरठ पीटीएस में तैनात है
दोनों नशेड़ियों ने यह भी बताया कि कांस्टेबल महेंद्र सिंह के कहने पर उन्होंने गाड़ी से टायर निकला था। जांच के दौरान पता चला कि पुलिस लाइन में खड़ी जब्त वाहनों की सुरक्षा के लिए आरक्षक महेंद्र सिंह को तैनात किया गया था। एएसपी आकाश पटेल ने कांस्टेबल महेंद्र सिंह से पूछताछ की। आरक्षक ने बताया कि यह स्टेपनी मेरठ पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय (पीटीएस) में तैनात इंस्पेक्टर महेश शर्मा की कार के लिए निकाला गया था। महेश शर्मा के बारे में बताया गया है कि वह फिलहाल गाजियाबाद पुलिस लाइन के परिसर में रहते हैं।

इंस्पेक्टर से पूछताछ, हो सकती है
कविनगर थाना प्रभारी आनंद प्रकाश मिश्रा ने बताया कि इस मामले में आरक्षक महेंद्र कुमार, मैकेनिक यूनुस और नावेद को गिरफ्तार किया गया है। तीनों को सोमवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। इस मामले में पीटीएस इंस्पेक्टर महेश शर्मा की भूमिका की भी जांच की जा रही थी। बताया जा रहा है कि वे भी टायर निकालते समय मौके पर मौजूद थे। पुलिस अधिकारियों ने उन्हें पूछताछ और बयान के लिए भी बुलाया है।

थाने पहुंचते ही वाहनों से कीमती सामान निकाल लिया जाता है
दरअसल, किसी भी मामले में पकड़े गए वाहन थाने में ही खड़े रहते हैं। इसके बाद वाहनों से टायर, स्टेपनी, म्यूजिक सिस्टम समेत कीमती सामान निकाला जाता है। कई बार ऐसा हुआ है कि जब वाहन मालिक कोर्ट का आदेश लेकर थाने जाते हैं तो उन्हें अपना वाहन पूरी तरह सुरक्षित नहीं मिलता है। कुछ न कुछ सामान निश्चित रूप से गायब है।

whatsapp gif

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here