Home Breaking News सांसद ने लोकसभा में ध्वनि प्रदूषण पर प्रभावी नियंत्रण की मांग उठाई

सांसद ने लोकसभा में ध्वनि प्रदूषण पर प्रभावी नियंत्रण की मांग उठाई

मेरठ-हापुड़ लोकसभा क्षेत्र के सांसद राजेन्द्र अग्रवाल ने आज लोकसभा में शून्यकाल के दौरान ध्वनि प्रदूषण पर प्रभावी नियंत्रण के सम्बन्ध में व्यवस्था बनाये जाने की मांग की। इस दौरान लोकसभा में बोलते हुए सांसद ने कहा की जल एवं वायु प्रदूषण के समान ध्वनि का प्रदूषण भी एक गंभीर समस्या है जिसे नियंत्रित करने के लिए सरकार ने सन 2000 में ध्वनि प्रदूषण नियम, 2000 बनाया। सांसद ने लोकसभा में ध्वनि प्रदूषण पर प्रभावी नियंत्रण की मांग उठाईइसके अंतर्गत शोर का स्तर दिन में 50 से 75 डेसिबल और रात में 40 से 70 डेसिबल अनुमान्य किया गया। उन्होंने कहा कि देखने में आता है कि इन नियमों का व्यापक स्तर पर उल्लंघन किया जाता है। अनेक समारोहों में संगीतआदि बजाने के लिए प्रयोग किये जाने वाले डीजे अथवा डाॅल्बी यंत्रों द्वारा 100 डेसिबेल से भी अधिक का ध्वनि प्रदूषण किया जाता है।सांसद ने लोकसभा में ध्वनि प्रदूषण पर प्रभावी नियंत्रण की मांग उठाईसांसद राजेन्द्र अग्रवाल ने कहा कि डब्लू.एच.ओ की रिपोर्ट के अनुसार भारत की 6 प्रतिशत से ज्यादा आबादी पूर्ण अथवा आंशिक बहरेपन की शिकार है जिसका मुख्य कारण लोगों का 60 डेसिबेल से अधिक शोर के संपर्क में रहना है। इससे बधिरता के साथ ही ह्रदय रोग, मानसिक व्याधियां एवं अन्य संज्ञानात्मक रोग होने की संभावनाएं होती है।

Must Read

सांसद ने लोकसभा में ध्वनि प्रदूषण पर प्रभावी नियंत्रण की मांग उठाई