Home Breaking News The Kerala Story देखने गए लोगों को कॉलर पकड़ घसीटा: बंगाल पुलिस...

The Kerala Story देखने गए लोगों को कॉलर पकड़ घसीटा: बंगाल पुलिस को BJP ने बताया – ‘जजियाखोर सरकारी गुंडा’

पश्चिम बंगाल के हावड़ा के बेलूर इलाके में स्थित ‘फोरम रंगोली मॉल’ में सोमवार (8 मई 2023) को फिल्म ‘द केरल स्टोरी’ (The Kerala Story) की स्क्रीनिंग की गई थी। बीजेपी का आरोप है कि बंगाल पुलिस ने पहले तो स्क्रीनिंग रोकी। इसके बाद फिल्म देखने आए लोगों को घसीटते हुए मॉल से बाहर कर दिया।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में पुलिसकर्मियों को लोगों की कॉलर पकड़ कर खींचते हुए देखा जा सकता है। इस पूरी घटना पर बीजेपी ममता बनर्जी सरकार पर हमलावर है। ऑपइंडिया से हुई बातचीत में पश्चिम बंगाल भाजयुमो के मीडिया प्रभारी प्रत्युष सिंह ने कहा:

” द केरल स्टोरी’ की रिलीज के बाद से अब तक केरल में किसी प्रकार की हिंसक घटना नहीं हुई थी। फिल्म को लेकर बंगाल में सांप्रदायिक घटना ममता बनर्जी की कोरी कल्पना है। यह सब कुछ ममता बनर्जी द्वारा फिल्म पर बैन लगाने के बाद भी हो रहा है।”

उन्होंने अपनी बात दोहराते हुए कहा है, “सिनेमाघरों में फिल्म के चलने से किसी प्रकार की कोई घटना नहीं हुई थी। लेकिन फ़िल्म रुकवाने के लिए पुलिस के वेश में गए जजियाखोर सरकारी गुंडों ने कानून व्यवस्था को तहस-नहस करते हुए लोकतंत्र की मर्यादा को तार-तार कर दिया। इन सरकारी गुंडों ने फिल्म देख रहे लोगों को कॉलर पकड़कर घसीटकर बाहर निकाला है।”

प्रत्युष सिंह ने आगे कहा कि यह पूरी तरह से मौलिक अधिकारों का हनन है। उनके अनुसार बंगाल पुलिस ने दर्शकों के साथ जिस तरह की हरकतें की हैं, वह दर्शाता है कि सरकार अमानवीय, बर्बर, अत्याचारी और तानाशाही है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा और भाजयुमो इसके खिलाफ पूरे पश्चिम बंगाल में विरोध प्रदर्शन करेगी।

बीजेपी नेता राकेश सिंह ने ट्वीट कर कहा है, “ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल में नागरिक स्वतंत्रता और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को कुचल रही हैं। यह वीडियो कथित तौर पर हावड़ा के रंगोली मॉल का है।”

उन्होंने राज्य में कानून-व्यवस्था को लेकर कहा, “फिल्म देखने के इच्छुक लोगों पर हमला किया जा रहा है। ममता बनर्जी की पुलिस ने मासूम दर्शकों को परेशान किया है। ये लोग तो सेंसर बोर्ड द्वारा पास की गई फिल्म देखने पहुँचे थे। यह बुनियादी मौलिक अधिकारों का पूरी तरह से उल्लंघन है।”

भाजपा के मीडिया पैनलिस्ट आशुतोष झा ने कहा है, ‘सेंसर बोर्ड द्वारा पारित फिल्म देखने के लिए वहाँ पहुँचे मासूम दर्शकों के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई बुनियादी मौलिक अधिकारों का पूरी तरह से उल्लंघन है।” साथ ही उन्होंने इस मामले में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के हस्तक्षेप की माँग की।

बीजेपी कार्यकर्ता अमित ठाकुर ने कहा है, “ममता बनर्जी की पुलिस लोगों को ‘द केरल स्टोरी’ देखने से रोक रही है। इस तरह का व्यवहार स्वीकार नहीं किया जाएगा। हम सभी को फिल्म का समर्थन करना चाहिए।”

भाजपा युवा मोर्चा की उपाध्यक्ष प्रियंका शर्मा ने कहा है, “हावड़ा पुलिस ने रंगोली मॉल में ‘द केरल स्टोरी’ फिल्म देखने गए लोगों को परेशान किया और उन्हें बाहर निकाला। उनका अपराध यह था कि वे सिर्फ टिकटों के पैसों की वापसी चाहते थे।”

बात दें कि प्रियंका शर्मा ने मई 2019 में ममता बनर्जी का ‘मेट-गाला थीम्ड मीम’ पोस्ट किया था। इसके बाद बंगाल पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था।

इस पूरे मामले की जानकारी के लिए ऑपइंडिया ने फोरम रंगोली मॉल से संपर्क किया लेकिन उन्होंने हमारे सवाल का जवाब देने से इनकार कर दिया और कॉल कट कर दिया।

पश्चिम बंगाल में बैन हुई ‘द केरल स्टोरी’

एक ओर जहाँ बीजेपी शासित राज्यों में ‘द केरल स्टोरी’ टैक्स फ्री की जा रही है। वहीं, वोट बैंक की राजनीति के चलते दूसरे राज्यों में इस पर बैन लगाने की माँग भी हो रही है। इस माँग के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने फिल्म को राज्य में बैन कर दिया है। ममता बनर्जी ने कहा है कि ऐसा फैसला राज्य में नफरत और हिंसा रोकने तथा शांति बरकरार रखने के लिहाज से लिया गया है।

गौरतलब है कि ‘The Kerala Story’ फिल्म में दिखाया गया है कि केरल में कट्टरपंथी मुस्लिम लड़के हिंदू लड़कियों को फँसाते हैं। इसके बाद लड़कियों का इस्लाम में धर्मांतरण करा कर उन्हें इस्लामिक आतंकी संगठन ISIS के लिए सेक्स स्लेव बनने के लिए भेजा जाता है।


.

News Source: https://hindi.opindia.com/politics/the-kerala-story-howrah-screening-disrupted-movie-goers-vs-west-bengal-police/

The Kerala Story देखने गए लोगों को कॉलर पकड़ घसीटा: बंगाल पुलिस को BJP ने बताया – ‘जजियाखोर सरकारी गुंडा’
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

The Kerala Story देखने गए लोगों को कॉलर पकड़ घसीटा: बंगाल पुलिस को BJP ने बताया – ‘जजियाखोर सरकारी गुंडा’