Home Breaking News पार्टनर की मजबूरी भी समझें

पार्टनर की मजबूरी भी समझें

वैसे तो मेट्रो सिटीज में अधिकतर कपल नौकरी पर जाते हैं पर कभी-कभी लड़की नौकरी वाली नहीं होती तो उसे अपने पार्टनर की ऑफिस की मजबूरियों को समझना चाहिए क्योंकि मेट्रो सिटीज में लोग ऑफिस तो सुबह टाइम पर जाते हैं पर वापिस आने का निश्चित समय उन्हें भी नहीं पता होता।

– Advertisement –

ऐसे में पति पत्नी में दूरियां बढऩी प्रारंभ हो जाती हैं जो एक हेल्दी मैरिड लाइफ के लिए एक घुन होता है जो अंदर ही अंदर दोनों को खोखला बना देता है और पता ही नहीं लगता कि कब दरारें आने लगती हैं और आपसी रिश्तों में नौबत तलाक तक पहुंच जाती है।

अगर आपका पार्टनर भी ऑफिस के वर्क प्रेशर के कारण परेशान है और वो अधिक समय ऑफिस में लगाता है तो आप उससे नाराज होने के बजाए उसे सपोर्ट करें ताकि न वो तनाव में रहे और न आप और घर का वातावरण हैल्दी बना रहे। आपके सहयोग से घर का वातावरण खुशनुमा बना रह सकता है।

यदि आपका पार्टनर ऑफिस में ज्यादा बिजी है तो आप यह कभी न सोचें कि वो आपसे प्यार नहीं करता। ऐसे विचार दोनों में दूरी लाने के अलावा कुछ नहीं करते। आप उनकी स्थिति को समझें न कि उनसे तकरार करें।
आपको उनकी ऑफिस के प्रति जिम्मेदारियों को भी समझना चाहिए और उन्हें सपोर्ट देना चाहिए।

जब आपके वो ऑफिस से थक कर आएं तो आते ही सवालों की झड़ी न लगाएं। उन्हें पूरा अवसर रिलैक्स होने के लिए दें। चाय या उनकी पसंद के अनुसार कुछ हल्का खाने को दें। उनके घर आने पर उनके साथ अच्छा वक्त बिताने का प्रयास करें। कई बार अधिक व्यस्तता के कारण आपका पार्टनर अपनी सेहत का पूरा ध्यान नहीं रख पाता। ऐसे में आपका फर्ज बनता है कि आप उन्हें हेल्दी खाना ऑफिस के लिए बना कर दें और घर पर भी उन्हें स्नैक्स और डिनर हेल्दी दें ताकि वो पौष्टिक खाना खा सकें।

अच्छी पार्टनर होने के नाते आप उनकी घर की जिम्मेदारियों को कुछ कम कर दें जैसे टेलीफोन, बिजली के बिल जमा करवाना, बैंकों का काम, घर की दैनिक जरूरतों की खरीदारी करना आदि। ये सब जिम्मेदारियां आप कुछ समय के लिए अपने ऊपर ले लें। इससे उन्हें भी अहसास होगा कि आप उनका ध्यान रखती हैं।

छुट्टी वाले दिन भी उन्हें पूरा अवसर दें कि वो रिलैक्स हो सकें। उनकी मर्जी होने पर शाम को आप मूवी देखने जा सकते हैं या किसी माल में विंडो शापिंग के लिए निकल सकते हैं ताकि वो सप्ताह भर के प्रेशर को समाप्त कर तनाव रहित हो सकें।
रिश्तेदारों के दु:ख सुख में आप सप्ताह के बीच में अकेले जाकर जिम्मेदारी निभा लें ताकि उनका वीकएंड सही निकल सके।
-सुनीता गाबा

.

News Source: https://royalbulletin.in/understand-the-helplessness-of-the-partner/77618

पार्टनर की मजबूरी भी समझें
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

पार्टनर की मजबूरी भी समझें