Home Breaking News नया ई-स्कूटर क्यों ख़रीदे : पुराने पेट्रोल स्कूटर को इलेक्ट्रिक स्कूटर में...

नया ई-स्कूटर क्यों ख़रीदे : पुराने पेट्रोल स्कूटर को इलेक्ट्रिक स्कूटर में बदलें, फुल चार्ज करने पर 65 किमी तक चलेगा; जाने इस काम में कितना खर्च आएगा

नया ई-स्कूटर क्यों ख़रीदे : पुराने पेट्रोल स्कूटर को इलेक्ट्रिक स्कूटर में बदलें, फुल चार्ज करने पर 65 किमी तक चलेगा; जाने इस काम में कितना खर्च आएगा

देश में इलेक्ट्रिक वाहनों से जुड़े कई स्टार्टअप शुरू हो रहे हैं। वहीं, ई-वाहन की बिक्री को बढ़ावा देने के लिए सरकार की ओर से डीलर और ग्राहक दोनों को सब्सिडी दी जा रही है. इस बीच, बेंगलुरु के कुछ स्टार्टअप ने पेट्रोल स्कूटर को इलेक्ट्रिक स्कूटर में बदलना शुरू कर दिया है। यानी अब आपको नया ई-स्कूटर खरीदने की जरूरत नहीं है।Read Also:-Truecaller को मात देने आया है स्वदेशी ऐप BharatCaller, जानिए क्या है ऐप की विशेषताएं?

ortho

राइड-शेयरिंग स्टार्टअप कंपनी बाउंस ने बैंगलोर में इसी तरह की योजना शुरू की है। कंपनी किसी भी पेट्रोल इंजन वाले स्कूटर को इलेक्ट्रिक मोटर और बैटरी लगाकर इलेक्ट्रिक स्कूटर में बदल देती है। इसके लिए कंपनी सिर्फ 20 हजार रुपये चार्ज करती है। बाउंस अब तक एक हजार से ज्यादा पुराने स्कूटरों को इलेक्ट्रिक स्कूटर में तब्दील कर चुका है।

advt.

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी पुराने स्कूटर में रेट्रोफिट किट लगाती है जिसमें इलेक्ट्रिक मोटर, बैटरी शामिल है। स्कूटर में जो बैटरी किट लगाई गई है, वह एक बार चार्ज करने पर 65 किमी तक चलती है। यह किट ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया द्वारा प्रमाणित है।

dr vinit new

स्कूटर मालिकों के लिए भी खोल रहे सर्विस सेंटर
बाउंस के सह-संस्थापक विवेकानंद हल्लेकरे ने कहा कि कंपनी ने पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर पुराने पारंपरिक स्कूटर को इलेक्ट्रिक स्कूटर में बदलना शुरू कर दिया है। बाद में उन्होंने महसूस किया कि पेट्रोल स्कूटर को इलेक्ट्रिक स्कूटर में बदलने के लिए एक बड़ा बाजार हो सकता है। उनकी कंपनी इन स्कूटर मालिकों के लिए सर्विस सेंटर भी खोल रही है। बाउंस के बाद अब अन्य कंपनियों ने भी यह काम शुरू कर दिया है, जिसमें एट्रियो और मेलडाथ ऑटो कंपोनेंट्स शामिल हैं।

devanant hospital

मेलादथ एक ऐसा आसान हाइब्रिड किट लॉन्च करने की तैयारी में है, जो किसी भी पुराने पेट्रोल स्कूटर को आसानी से इलेक्ट्रिक हाइब्रिड स्कूटर में बदल सके। यानी इस स्कूटर को जरूरत पड़ने पर पेट्रोल या इलेक्ट्रिक किसी भी मोड में चलाया जा सकता है। मेलादथ इसके लिए 40 हजार रुपये तक चार्ज करेंगे।

पंजाब

रकार से कितनी सब्सिडी
Altius Auto Solutions कंपनी के संस्थापक राजीव अरोड़ा ने बताया कि इलेक्ट्रिक वाहनों में इस्तेमाल होने वाली लिथियम बैटरी की कीमत 13 से 15 हजार प्रति किलोवाट के बीच होती है। वहीं, सरकार 15,000 रुपये प्रति किलोवाट तक सब्सिडी दे रही है। इससे निर्माताओं को प्रति किलोवाट 2 हजार रुपए की बचत हो रही है। इस तरह वाहन में इस्तेमाल होने वाले अन्य पुर्जों की कीमत कम हो जाती है।

whatsapp gif

इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाने की लागत
राजीव ने बताया कि एक ई-स्कूटर तैयार करने में करीब 30 से 45 हजार रुपये का खर्च आता है। यह अंतर इसलिए है क्योंकि इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों में विभिन्न प्रकार की मोटरों का उपयोग किया जाता है। स्कूटर बनाने में सबसे ज्यादा खर्च होता है इसकी मोटर का। वर्तमान में दो प्रकार की मोटरों का उपयोग किया जा रहा है। स्कूटर की कीमत मोटर की गुणवत्ता के आधार पर भिन्न होती है।

advt
  • हब मोटर: इसका उपयोग वाहन के पहिए के अंदर किया जाता है। इसकी कीमत ज्यादा नहीं 20 हजार के करीब है।
  • मिड ड्राइव मोटर: यह वाहन के केंद्र में स्थापित होता है। चेन या बेल्ट की मदद से वाहन चलाता है। यह मोटर थोड़ी महंगी है।
ankit

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।

नया ई-स्कूटर क्यों ख़रीदे : पुराने पेट्रोल स्कूटर को इलेक्ट्रिक स्कूटर में बदलें, फुल चार्ज करने पर 65 किमी तक चलेगा; जाने इस काम में कितना खर्च आएगा
The Sabera Deskhttps://www.thesabera.com
Verified writer at TheSabera

Must Read

नया ई-स्कूटर क्यों ख़रीदे : पुराने पेट्रोल स्कूटर को इलेक्ट्रिक स्कूटर में बदलें, फुल चार्ज करने पर 65 किमी तक चलेगा; जाने इस काम में कितना खर्च आएगा