चीनी मिलों पर फंसा किसानों का 850 करोड़, संगठन नहीं उठा पा रहे दमदार आवाज

जनपद की नौ चीनी मिलों पर किसानों का पिछले पेराई सत्र का करीब 850 कराेड़ रुपये गन्ना मूल्य बकाया है, लेकिन कोरोना काल में आंदोलनों पर रोक लगी होने की वजह से किसान संगठन भी दमदार ढंग से अपनी आवाज नहीं उठा पाए। पर्याप्त भुगतान नहीं होने किसानों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया। जनपद में वेब ग्रुप की बिजनौर, चांदपुर, बिलाई, धामपुर, स्योहारा, बहादरपुर, बिलाई, बरकातपुर और नजीबाबाद चीनी मिल पर पेराई सत्र 2019 में खरीदे गए गन्ने का करीब 850 करोड़ रुपये बकाया चल रहा है।

हालांकि पिछले सप्ताह की हुई समीक्षा बैठक में डीएम ने पाया कि साप्ताहिक लक्ष्य के अनुसार धामपुर चीनी मिल ने 20 करोड़ के सापेक्ष 7.56 करोड़ रुपये, स्योहारा मिल ने पांच करोड़ के सापेक्ष 1.96 करोड़ रुपये, बिलाई चीनी मिल ने 10 करोड़ के सापेक्ष 8.30 कराेड़ रुपये, बहादरपुर ने पांच कराेड़ के सापेक्ष 5.18 करोड़ रुपये, बरकातपुर मिल ने पांच करोड़ के सापेक्ष 2.62 करोड़ रुपये, बुंदकी मिल ने छह करोड़ के सापेक्ष 6.02 करोड़ रुपये, चांदपुर मिल ने पांच करोड़ रुपये के सापेक्ष 3.36 करोड़ रुपये और बिजनौर चीनी मिल ने पांच करोड़ के सापेक्ष 2.19 कराेड़ रुूपये का भुगतान कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here