डिजिटल लाइब्रेरी को क्लिक करने से बच रहे छात्र-छात्राएं

कोविड काल में डिग्री कालेज और विश्वविद्यालयों में छात्र-छात्राओं की पढ़ाई आनलाइन चल रही है। इसके लिए प्रदेशभर के शिक्षकों ने ई-कंटेंट तैयार कर डिजिटल लाइब्रेरी में अपलोड किए हैं, लेकिन जितने छात्र हैं, उसके अनुपात में बहुत कम छात्र ई-कंटेंट से पढ़ पा रहे हैं। उच्च शिक्षा की अपर मुख्य सचिव मोनिका एस. गर्ग ने इसे लेकर चिता जताई है। शुक्रवार को डिजिटल कमेटी की बैठक में सभी विश्वविद्यालयों से कहा गया है कि वे ई-कंटेंट की पहुंच छात्रों तक बढ़ाने के लिए अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करें।प्रदेश में स्नातक और परास्नातक कक्षाओं में करीब 44 लाख छात्र- छात्राएं पढ़ रहे हैं। जिनके लिए 62 हजार 728 ई-कंटेंट अभी तक तैयार किए गए हैं। इन कंटेंट को सात हजार से अधिक कालेजों के 4456 शिक्षकों ने तैयार किया है। इस समय तक उत्तर प्रदेश उच्च शिक्षा के डिजिटल लाइब्रेरी में 23 ब्रांच के 180 विषयों के ई-कंटेंट अपलोड किए गए हैं। ये पूरी तरह से निश्शुल्क हैं। जिसे शिक्षकों ने तैयार किया है तथा छात्रों के लिए काफी उपयोगी है। बावजूद 44 लाख में केवल एक लाख 34 हजार छात्र- छात्राएं ऐसे हैं, जो ई-कंटेंट पढ़ रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here