कोरोना महामारी ने महज 24 घंटे के अंदर ही बेटी के सिर से माता पिता का साया छीन लिया। चंद घंटों के अंतराल में पहले पिता और फिर मां ने बेटी का साथ छोड़ दिया। चिकित्सा सुविधाओं की कमी और अव्यवस्थाओं के बीच हर दिन इसी तरह मरीज दम तोड़ रहे हैं और अपनों का साथ छूट रहा है।नंगलाताशी निवासी 18 वर्षीय कल्पना के पिता प्राइवेट कंपनी में कर्मचारी थे। संक्रमित होने के बाद उसे कंकरखेड़ा बाईपास स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया। पिता को रेमडेसिविर इंजेक्शन दिलाने के प्रयास में उनकी बेटी लगी रही। सोशल साइट पर वालंटियर्स द्वारा चलाए जा रहे कोविड हेल्पलाइन नंबरों पर संपर्क किया, लेकिन कोई व्यवस्था नहीं हुई और पिता की मृत्यु हो गई।

Leave a Reply