वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण के छठे संस्करण ‘स्वच्छ सर्वेक्षण 2021’ का शहरों में जाकर जमीनी मूल्याकंन एक मार्च से शुरू हो गया है। यह 28 मार्च तक चलेगा। इस बीच किसी भी दिन केंद्रीय टीम शहर में आ सकती है। इसे लेकर नगर निगम की जिस तरह की तैयारी होनी चाहिए, वह नजर नहीं आ रही है। मुख्य मार्गो के किनारे कचरे के ढेर लगे हुए हैं। सफाई पूरी तरह नदारद है। हवा के झोकों के साथ सड़क पर कचरा उड़कर आ रहा है। धूल इस कदर है कि आंखों में चूभ रही है। लेकिन निगम अधिकारी खुद सफाई में सुधार के बजाय नुक्कड़ नाटक के जरिए जनता को सफाई के लिए जागरूक करने में जुटे हैं।शहर में सुबह सड़कों पर झाड़ू नहीं लग रही है। जिससे दिल्ली रोड, गढ़ रोड, बागपत रोड, मवाना रोड, सूरजकुंड रोड समेत मोहल्लों की सड़कों पर धूल ही धूल नजर आती है। डिवाइडर किनारे धूल जमा है। गत दिनों मलियाना फ्लाईओवर से धूल सफाई अभियान शुरू तो हुआ, लेकिन एक ही दिन में खत्म हो गया।

Leave a Reply